अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी से मिले केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह

अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी से मिले केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह

नई दिल्ली | केंद्रीय विद्युत मंत्री आर.के. सिंह (Union Minister for Power R.K. Singh) ने सोमवार को नई दिल्ली में जलवायु के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी (Special Presidential Envoy for Climate John Kerry) के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। बैठक का उद्देश्य जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर सहयोग पर चर्चा करना और दोनों देशों के बीच ऊर्जा संक्रमण पर शेष दुनिया के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक वास्तविक साझेदारी की दिशा में काम करना था। 

बैठक के दौरान, अमेरिकी प्रतिनिधि मंडल ने ऊर्जा पहुंच अभियान और 2030 तक 450 गीगा वाट अक्षय ऊर्जा प्राप्त करने की प्रतिबद्धता के लिए भारत की सराहना की। उन्होंने 18 महीनों में देश में 28.02 मिलियन घरों में विद्युतीकरण के लिए भारत की सराहना की।
 
ऊर्जा मंत्री (Union Power Minister ) ने भी अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल को भारत सरकार के स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण की दिशा में आगे बढ़ने की मंशा से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि अक्षय ऊर्जा के संचार के लिए सबसे बड़ी चुनौती भंडारण की थी जिसे बिजली आपूर्ति को सुलभ बनाने के लिए तुरंत संबोधित करने की आवश्यकता है। उन्होंने उल्लेख किया कि आने वाले महीनों में ग्रीन हाइड्रोजन और इलेक्ट्रोलाइजर्स ( bids for Green Hydrogen and Electrolyzers) के लिए बड़ी परियोजनाएं देश में शुरू होंगी जिसके लिये अभी फिलहाल बिड आमंत्रित की जाने की योजना है।  

इस सिलसिले में ऊर्जा मंत्री ने अमेरिकी कंपनियों को भी इन बोलियों में भाग लेने के लिए आगे आने का अनुरोध किया। उन्होंने लद्दाख में ग्रीन हाइड्रोजन और ग्रीन एनर्जी कॉरिडोर (Green Hydrogen and Green Energy Corridors) पर भारत की आगामी परियोजनाओं पर भी प्रकाश डाला। दोनों पक्ष इस बात पर भी सहमत हुए कि भारतीय प्रयोगशालाएं लागत कम करने और ऊर्जा संक्रमण को आर्थिक रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए वैकल्पिक रसायन खोजने के उद्देश्य से अमेरिकी प्रयोगशालाओं के साथ काम कर सकती हैं।

0Comments