हमने जेल को सुधार गृह बनाया, अपराधियों के मनोरंजन का केंद्र नहीं: सीएम योगी

हमने जेल को सुधार गृह बनाया, अपराधियों के मनोरंजन का केंद्र नहीं: सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि अब उत्तर प्रदेश की जेलें अपराधियों के मनोरंजन का केंद्र नहीं रह गई हैं, बल्कि कैदियों के लिए सुधार गृह हैं। उन्होंने यह बात कुल 245 करोड़ रुपये की लागत वाली 122 विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करते हुए कही। इसमें रविवार को संत कबीरनगर जिले में 126 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित जिला कारागार का भवन भी शामिल है।

“हमने राज्य की जेलों को सुधार गृहों में बदल दिया है जहाँ अपराधियों को सुधार का मौका दिया जा रहा है। उत्तर प्रदेश की जेलें अब अपराधियों के लिए मौज-मस्ती की जगह नहीं रही। एक समय था जब सत्ता माफियाओं की गुलाम हुआ करती थी, आज हमारी सरकार का बुलडोजर उनके घरों पर चलता है।”

कार्यक्रम में बोलते हुए, सीएम ने कहा - माफिया के लिए हमारा संदेश बहुत स्पष्ट है। माफिया अगर गरीब, किसान, व्यापारी की जिंदगी को नर्क बना देंगे तो हमारी सरकार किसी भी हाल में ऐसा नहीं होने देगी।

मुख्यमंत्री ने संत कबीर नगर में नवनिर्मित जिला जेल पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि अब बंदियों को बस्ती जिले में नहीं भेजना पड़ेगा और यह जेल सुधार गृह के रूप में आदर्श कारागार बनेगी। मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि पिछली सरकारों में वंशवाद, भाई-भतीजावाद, तुष्टीकरण, डकैती, गुंडागर्दी और दंगे राज्य की पहचान बन गए थे। युवाओं की नौकरियों की नीलामी की गई और गरीबों के निवाले लूट लिए गए। नौकरियां पहले गिरवी रखी गई थीं। अगर कोई आज नौकरी की नीलामी करने की कोशिश करता है, तो हम उनके घर की नीलामी करवा देंगे।

सीएम योगी ने आगे कहा कि सरकार ने युवाओं को उनकी योग्यता के आधार पर पूरी पारदर्शिता के साथ 4.5 लाख से अधिक सरकारी नौकरियां दी हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में करीब 90,000 और सरकारी नौकरियां सामने आ रही हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दोहराया कि विभिन्न प्रतियोगिताओं की तैयारी कर रहे युवाओं को राज्य में 'प्रतियोगिता परीक्षा भत्ता' मिलेगा। साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के युवाओं को डिजिटल एक्सेस के साथ-साथ टैबलेट वितरित करने का निर्णय लिया है।

सीएम योगी ने कहा कि उनकी सरकार का जोर उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करने पर है। 30,000 महिला पुलिसकर्मियों की भर्ती इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। महिलाओं के हित में सरकार मिशन शक्ति, कन्या सुमंगला और निराश्रित महिला पेंशन जैसी कई योजनाओं को लगातार आगे बढ़ा रही है।

समारोह में सीएम योगी आदित्यनाथ ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत पांच महिलाओं को सिलाई टूलकिट भी भेंट की। इसका जिक्र करते हुए उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि यह टूलकिट पीएम नरेंद्र मोदी की मंशा के अनुरूप वोकल फॉर लोकल के मंत्र का पालन करते हुए महिलाओं के लिए स्वरोजगार का मंच बन सकता है। 

सीएम ने कहा कि किसी समय इस जिले में खलीलाबाद करघे और हथकरघा का बड़ा केंद्र हुआ करता था। ऐसे में यह रेडीमेड गारमेंट्स का हब क्यों नहीं बन सकता? अगर हम महिलाओं को आधुनिक सिलाई मशीन देकर बाजार से जोड़ेंगे तो हर घर में रेडीमेड कपड़े बनने लगेंगे। ऐसे में हम रेडीमेड कपड़ों के उत्पादन के मामले में बांग्लादेश और वियतनाम को भी पीछे छोड़ सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने संत कबीरनगर जिले के बखीरा के बर्तन उद्योग का भी प्रमुखता से जिक्र किया। “पिछली सरकारों में इसे भुला दिया गया था लेकिन हम बखिरा के बर्तन उद्योग को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने की दिशा में काम कर रहे हैं। यह स्थानीय स्तर पर युवाओं और महिलाओं के लिए रोजगार का एक प्रमुख स्रोत बन जाएगा।

मुख्यमंत्री ने एक बार फिर कहा कि संत कबीरनगर में पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज की स्थापना की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने संत कबीर नगर में बाढ़ की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार हर पीड़ित को पर्याप्त मात्रा में राहत किट उपलब्ध करा रही है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सांप रोधी विष और रेबीज रोधी टीके की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि हर बाढ़ पीड़ित तक राहत सामग्री पहुंचे।

सीएम ने कहा कि अब संत कबीर नगर विकास के मामले में किसी जिले से पीछे नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि बाबा तमेश्वरनाथ और महान सूफी संत संत कबीर की यह भूमि विकास की आशा में थी। विकास के लिए राजनीतिक घोषणाएं की गईं लेकिन उन्हें लागू नहीं किया गया। लेकिन पिछले साढ़े चार साल में एक बदलाव आया है।

आज 245 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं से जुड़ा यह कार्यक्रम दर्शाता है कि यह जिला अब विकास के नए प्रतिमानों को छूएगा। विकास लोगों की जरूरत है और इससे ही प्रत्येक व्यक्ति के कल्याण का मार्ग प्रशस्त होगा। समारोह के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के लाभार्थियों, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना और शादी अनुदान योजना के लाभार्थियों और सामुदायिक शौचालयों की सफाई का प्रबंधन करने वाले स्वयं सहायता समूहों के कार्यवाहकों को मानदेय स्वीकृति पत्र भी वितरित किए। 

उन्होंने कोविड-19 से मरने वाले सरकारी कर्मचारियों के आश्रितों को नियुक्ति पत्र भी प्रदान किए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कृषि यंत्रीकरण योजना प्रस्तुत करने के लाभार्थियों को चाबी भी सौंपी। समारोह में कारागार मंत्री जयकुमार सिंह जैकी, उद्यान एवं कृषि विपणन मंत्री राम चौहान, स्टाम्प निबंधन मंत्री रवींद्र जायसवाल, सांसद प्रवीण निषाद, विधायक राकेश सिंह बघेल, दिग्विजय नारायण चौबे, दयाराम चौधरी आदि भी मौजूद थे। धन्यवाद ज्ञापन अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने किया।

0Comments