होम > अजब गजब

यहां पेड़ के नीचे चलता है क्लीनिक, जोरदार थप्पड़ खाने के लिए आते हैं हजारों मरीज

यहां पेड़ के नीचे चलता है क्लीनिक, जोरदार थप्पड़ खाने के लिए आते हैं हजारों मरीज

आजकल के जमाने में मेडिकल साइंस काफी उन्नत किस्म की हो गई है। कई लाइलाज बीमारियों के ट्रीटमेंट का इजात कर लिया गया है। कई तरह की दवाइयों का भी आविष्कार कर लिया गया है। लेकिन आज भी कई ऐसी जगहें हैं, जहां मरीज को ठीक करने के लिए इन चिकित्सकीय सुविधाओं का नहीं, बल्कि कुछ अजीबोगरीब नुस्खे अपनाए जाते हैं। हम आपको एक ऐसे ही जगह के बारे में जहां मरीज का इलाज लात, घूंसों और थप्पड़ों से किया जाता है। 


यहां छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के लाड़ेर गांव में रहने वाले मनसाराम (Mansaram) की बात कही जा रही है, जो अपना परिचय एक डॉक्टर के रूप में देते हैं, लेकिन उनके पास कोई डिग्री नहीं है। पेड़ के नीचे एक क्लीनिक चलाने वाले मनसाराम के पास मरीजों की कभी कोई कमी नहीं रहती है। स्थानीय लोगों के अलावा आसपास के गांव से भी लोग यहां खुद को ठीक कराने के लिए आते रहते हैं। 


मनसाराम की तथाकथित क्लीनिक के पास सुबह से शाम तक हजारों मरीज की लाइन लगी रहती है। अपना नंबर आने पर मरीज आगे आता है और फिर उसका अनोखा इलाज किया जाता है। मनसाराम मरीजों को जमकर लात—घूंसे मारते हैं, तमाचे पे तमाचा जड़ते हैं। इससे मरीज दर्द से एक बार भी कराहता नहीं है, बल्कि हर कोई मनसाराम की तारीफ ही करता है। 


इन सबके पीछे मनसाराम का दावा है कि अपनी इस पद्धति से वह लाइलाज बीमारियों को ठीक कर देने का दम रखते हैं। खुद गांव वाले भी इस बात की पुष्टि कर चुके हैं। 


मनसाराम का कहना है कि पहले वह किसान थे। लेकिन कुछ सालों पहले देवी मां ने उनके सपने में आकर लोगों का दुख दूर करने का आदेश दिया। बतौर मनसाराम देवी ने सपने में कहा था कि उनके हाथ—पैरों में दैवीय शक्ति है और इसी के सहारे वह लोगों के गम को दूर करने की काबिलियत रखते हैं। 


मनसाराम इलाज के लिए किसी भी मरीज को तीन बार बुलाते हैं। उनका कहना है कि बीमारी को जड़ से मिटाने के लिए तीन बार आना जरूरी है तभी उनकी बीमारी पूरी तरह से ठीक हो पाएगी। मनसाराम को भगवान की तरह पूजने वाले लोग उनकी कही गई बातों का अच्छे से पालन करते हैं। इलाज के बदले में लोग अपनी हैसियत के हिसाब से उन्हें चढ़ावा भी देते हैं। 


अब ये सब कुछ चमत्कार है या इंसान के मन का अंधविश्वास? यह तय करना मुश्किल है। 


पढ़ें Hindi News ऑनलाइन . जानिए देश-विदेश, मनोरंजन, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस और अपने प्रदेश, से जुड़ी खबरें।


यह भी पढ़ें-


छत्तीसगढ़ में प्रोफेसर भर्ती के लिए आवेदन शुरू, 500 से ज्यादा पदों पर होगी भर्ती