होम > अजब गजब

नाम के कारण फेमस हुआ कोविड, वायरस नहीं ये तो निकला

नाम के कारण फेमस हुआ कोविड, वायरस नहीं ये तो निकला

कोविड को हर व्यक्ति न सिर्फ देश में बल्कि विदेशों में भी अच्छे से जानता है। बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक हर किसी की जुबां पर कोविड का ही जिक्र है। दुनिया कोविड की ही गिरफ्त में है।


बीते दो सालों से दुनिया इसके खौफ के साए में जी रही है। बेहद खतरनाक इस वायरस के कारण दो सालों से दुनिया थम सी गई है। अगर इस कोविड से मिलने का मौका मिले तो? अगर इस नाम का व्यक्ति मिल जाए तो?


ऐसी एक व्यक्ति है कोविड कपूर, दिन की उम्र राई बरेली से राजा के बराबर है। जब कोविड हंसकर किसी से मिलते हैं और खुद का परिचय देते हैं तो लोग पहले तो उन्हें आश्चर्य भरी निहागों से निहारते हैं फिर उनका मजाक उड़ाते हैं.।, लेकिन यह सब कोविड के लिए बिल्कुल भी मजाक का विषय नहीं है, वे आज अपनी पहचान के लिए जूझ रहे है। कोविड कपूर बेंगलुरु में रहने वाले एक उद्यमी हैं..लेकिन आज अपना परिचय देते हुए कहते हैं कि मेरा नाम कोविड है और मैं कोई वायरस नहीं हूं...


2019 में जब पहली बार चीन में वायरस का प्रकोप सामने आया तो उसके बाद यह पूरी दुनिया में तेजी से फैला गया। विश्व स्वस्थ्य संगठन ने इस महामारी का नाम कोविड-19 रखने की घोषणा की। यह वो वक्त था जब कोविड कपूर यह सुनकर पूरी तरह हैरान थे। लेकिन जब वो लोगों से मिलते तो उनका नाम लोगों को हैरान करने लगा.. केवल इंसान ही नहीं स्टारबक्स से लेकर जीमेल और सभी आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस तक इनके नाम को वायरस से जोड़ने लगे। इतना ही नहीं जीमेल पर AI ने इनके नाम की सही स्पेलिंग Kovid की जगह Covid सुझाई।


जानें किसने रखा विचित्र नाम


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जब कोविड कपूर से पूछा गया कि उनका नाम किसने रखा है तो उन्होंने बताया कि उनकी मां ने कोविंद नाम रखा था। उन्होंने हंसते हुए कहा कि उनकी माँ ने हनुमान चालीसा से नाम चुना इसका मतलब एक विद्वान या विद्वान व्यक्ति है। इसका एक सुंदर अर्थ है, लेकिन 2020 के बाद, दुनिया के लिए अर्थ बदल गया। क्योंकि अंग्रेजी में सॉफ्ट डी की अवधारणा नहीं है इसलिए उनके नाम का उच्चारण कोविड होने लगा।


मजाक से बचने के लिए एक बार कबीर बने कोविड


उन्होंने कहा कि लोग उनके नाम को सुनकर उनका मजाक उड़ाते हैं लेकिन अब उन्हें इसकी आदत होने लगी है। हालांकि उन्होंने यह जरूर स्वीकार किया कि एक बार उन्होंने मजाक से बचने के लिए नकली नाम का इस्तेमाल किया था।