होम > अजब गजब

ऐसा दिखता है ब्लैक होल, सबसे पहली तस्वीर में खुला बड़ा राज

ऐसा दिखता है ब्लैक होल, सबसे पहली तस्वीर में खुला बड़ा राज

अगर आपका मन बार बार ये जानने का करता है कि ब्लैक होल कितना बड़ा है या फिर ब्लैक होल कैसा दिखता है, तो अब ये उत्सुकता शांत हो सकती है। हाल ही में खगोल वैज्ञानिकों ने सैजिटेरियस ए नामक ब्लाक होल की तस्वीर जारी की है। 

माना जा रहा है कि ये ब्लैकहोल सूर्य के द्रव्यमान से 40 गुणा अधिक बड़ा है। ये ब्लैक होल मात्र कुछ सेकेंडों के लिए दिखता है। बेहद मुश्किल और दुलर्भ इस तस्वीर को इवेंट होराइजन टेलीस्कोप (ईएचटी) की टीम की ओर से जारी किया गया है। इस तस्वीर के सामने आने के बाद दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने इसकी तारीफ की है।

बता दें कि ये तस्वीर सौरमंडल से 26,000 लाइट ईयर्स यानी 26 हजार प्रकाश वर्ष दूर स्थित ब्लैक होल के काफी नजदीक जाकर ली गई है। इस तस्वीर में तेज रोशनी के बीच एक काले रंग का प्लाइंट है, जिसे ब्लैक होल कहा जाता है।

 

बता दें कि ब्लैक होल की ये तस्वीर दूसरी बार सामने आई है। इससे पूर्व वर्ष 2019 में भी ब्लैक होल की एक तस्वीर सामने आई है। पहले ब्लैकहोल की तस्वीर M87 की थी। बता दें कि M87 ब्लैकहोल सूर्य के द्रव्यमान से 6.5 बिलियन गुणा से एक हजार गुणा अधिक बड़ा था।


क्या है ब्लैक होल?


बता दें कि ब्लैक होल अंतरिक्ष का वो हिस्सा है जहां भौतिक का कोई नियम काम नहीं करता है। यहां एक बार कोई चीज जाने पर वापस नहीं आती है। ब्लैक होल का वर्णन दुनिया के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने वर्ष 1916 में अपने सापेक्षता के सिद्धांत में भी वर्णन किया है।


उन्होंने बताया था कि ब्लैक होल के अंदर एक साथ कई सितारे अंधकार में समा सकते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि एक तारे के अंत के साथ ही एक ब्लैक होल उत्पन्न होता है। इस ब्लैक होल में पड़ने वाले प्रकाश को भी ब्लैक होल ग्रहण करता है और इसकी वापसी नहीं होती है।