होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

सोना हुआ सस्ता,चांदी स्थिर

सोना हुआ सस्ता,चांदी स्थिर

मंगलवार के शुरुआती कारोबार में सोना थोड़ा सस्ता जरूर हो गया जबकि चांदी की कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ। विश्लेषकों का कहना है कि हाल के अमेरिकी आंकड़ों के बाद फेडरल रिजर्व द्वारा दरों में वृद्धि की गति में मंदी की उम्मीद के बाद कमजोर डॉलर की संभावना मुख्य कारक है। अंतरराष्ट्रीय बाजारों में हाजिर चांदी 0.5 फीसदी बढ़कर 23.94 डॉलर प्रति औंस हो गई।

ऐसे में अब सवाल है कि क्या तेजी में सोना और चांदी खरीदने चाहिए या नहीं? विशेषज्ञों के अनुसार 2023 की पहली छमाही में कीमती धातुओं में हलचल देखने को मिल सकती है, जिससे यह निवेशकों के लिए एक अच्छा अवसर बन गया है। इस बीच विशेषज्ञों को उम्मीद है कि सोना 2023 की दूसरी छमाही में मजबूत रिटर्न देगा।
  
बीते 75 सालों में सोना और चांदी तेजी से महंगे हुए हैं। 1947 में जब देश आजाद हुआ था तब सोना 88.62 रुपए प्रति 10 ग्राम पर था जो अब 56 हजार के पार निकल गया है। यानी तब से लेकर अब तक सोना 631 गुना (63198%) महंगा हो चुका है। चांदी की बात करें तो आजादी से लेकर अब तक ये 644 गुना महंगी हो गई है। 1947 में चांदी का भाव करीब 107 रुपए किलो था ,और अब चांदी  72,000 के आस पास देखने को मिल रही है।
 
आज का सोने-चांदी का भाव 

दस ग्राम 24 कैरेट सोना 160 रुपये की गरावट के बाद 56,130 रुपये पर कारोबार कर रहा है। चांदी 71,800 रुपये पर बिक रही है। 22 कैरेट सोना 51,450 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बिक रहा है, 22 कैरेट सोने के प्रति 10 ग्राम के हिसाब 150 रुपये की गिरावट दर्ज की गई है। उपरोक्त सोने और चाँदी की दरें सांकेतिक हैं और इसमें जीएसटी, टीसीएस और अन्य शुल्क शामिल नहीं हैं। सटीक दरों के लिए अपने स्थानीय जौहरी से संपर्क करें।