होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

RBI ने फिर बढ़ाई ब्याज दरें, लोन की EMI होगी महंगी

RBI ने फिर बढ़ाई ब्याज दरें, लोन की EMI होगी महंगी

भारतीय रिजर्व बैंक की तीन दिन चली मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की बैठक के बाद आज गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से बताया की रेपो रेट में 0.35% की वृद्धि कर दी गई है अब रेपो रेट 5.90% से बढ़कर 6.25% हो गया है।

क्या कहा RBI गवर्नर ने

RBI गवर्नर ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से बताया कि वर्तमान समय में महंगाई चिंता का विषय बनी हुई है, अगले 12 महीने तक महंगाई चार प्रतिशत तक ऊपर रहने की सम्भावना है तथा यह इस समय भी तय लक्ष्य से ऊपर चल रही है, वित्तीय वर्ष 2023 के लिए जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 7 से घटाकर  6.8% प्रतिशत किया गया है, गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा तरलता को लेकर कोई समस्या नहीं है तथा ग्रामीण मांग में भी सुधार देखने को मिल रहा है।

लगातार पांचवीं बार रेपो रेट में हुई बढ़ोतरी

भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में यह लगातार पांचवीं बार बढ़ोतरी की है 22 मई 2022 में रेपो रेट बढाकर 4.40% किया गया था, 08 जून को RBI ने फिर इसे बढाकर 4.90% कर दिया अगस्त में फिर इसे 0.5 प्रतिशत बढाकर 5.40% कर दिया गया, 30 सितम्बर को रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में बढ़ोतरी करते हुए इसे 5.90% पर कर दिया तथा अब रेपो रेट  6.25% पर पहुँच गया है।

रेपो रेट से कैसे नियंत्रित होती है मंहगाई

जब अर्थव्यवस्था में तरलता ज्यादा होती है तो रिजर्व बैंक रेपो रेट में बढ़ोत्तरी कर देता है जिससे बैंकों को RBI से मिलने वाला लोन महंगा हो जाता है तथा बैंक ग्राहकों को महंगा कर्ज देते है जिससे ग्राहकों के पास तरलता की कमी हो जाती है तथा महंगाई नियंत्रित रहती है।