होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

CBI ने वीडियोकॉन के अध्यक्ष वेणुगोपाल धूत को गिरफ्तार किया

CBI ने वीडियोकॉन के अध्यक्ष वेणुगोपाल धूत को गिरफ्तार किया

सीबीआई ने आईसीआईसीआई बैंक मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सह-आरोपी वीडियोकॉन के अध्यक्ष वेणुगोपाल धूत को गिरफ्तार किया। कुछ दिन पहले सीबीआई ने उनसे पूछताछ भी की थी। जिसके फल सरूप  वेणुगोपाल धूत को मुंबई से गिरफ्तार किया गया है। 

सीबीआई ने 23 दिसंबर को चंदा कोचर और दीपक कोचर को गिरफ्तार किया था। दंपति को आज सीबीआई की हिरासत में रहना है।

सीबीआई ने आरोप लगाया है कि आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ- एमडी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को एक सह आरोपी ने नूपावर रिन्यूएबल्स लिमिटेड (एनआरएल) का स्वामित्व प्राप्त करने और अवैध धन प्राप्त करने में मदद की थी।

वीडियोकॉन समूह को उधारदाताओं के एक संघ द्वारा किए गए 40,000 करोड़ रुपये के ऋण में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए सीबीआई ने मार्च 2018 में दीपक कोचर और धूत के खिलाफ प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज की थी। एजेंसी ने चंदा, उनके पति और वेणुगोपाल धूत के साथ-साथ उनकी कंपनियों जैसे नूपावर रिन्यूएबल्स, सुप्रीम एनर्जी, वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड के खिलाफ मामला दर्ज किया था। 

अपनी प्रारंभिक जांच के दौरान, सीबीआई ने पाया कि वीडियोकॉन समूह और उससे जुड़ी कंपनियों को जून 2009 और अक्टूबर 2011 के बीच आईसीआईसीआई बैंक की निर्धारित नीतियों के कथित उल्लंघन में 1,875 करोड़ रुपये के छह ऋण स्वीकृत किए गए थे, जो जांच का हिस्सा हैं। 

एजेंसी ने कहा है कि कर्ज को 2012 में गैर-निष्पादित संपत्ति घोषित किया गया था, जिससे बैंक को 1,730 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। एजेंसी ने शुक्रवार को आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व प्रबंध निदेशक (एमडी) और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर को कथित आईसीआईसीआई बैंक-वीडियोकॉन मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया।