होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

तेल की वैश्विक कीमतों में उछाल के चलते देश में फिर बढे ईंधन के दाम

तेल की वैश्विक कीमतों में उछाल के चलते देश में फिर बढे ईंधन के दाम

नई दिल्ली |पेट्रोल और डीजल की कीमतों में शुक्रवार को एक बार फिर भी बढ़ोतरी हुई।  इसका मुख्या कारण वैश्विक तेल के दामों में फिर से उछाल आना है।  ताज़ा उछाल के बाद बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 1 प्रतिशत से ज्यादा बढ़कर 83 डॉलर प्रति बैरल हो गया है। देश के सबसे बड़े ईंधन रिटेलर इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के अनुसार, डीजल की कीमतें शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में 35 पैसे की तेजी से बढ़कर 92.12 रुपये प्रति लीटर हो गईं, जबकि पेट्रोल की कीमतें 30 पैसे बढ़कर 103.54 रुपये प्रति लीटर हो गईं।

पिछले 15 दिनों में से 12 दिनों में डीजल की कीमतों में अब दिल्ली में इसकी खुदरा कीमत 3.50 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है। इसकी कीमतें अब तक 20-30 पैसे प्रति लीटर के बीच बढ़ीं, लेकिन बुधवार के बाद से यह 35 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि पर पहुंच गई।

डीजल की कीमतों में तेजी से वृद्धि के साथ, ईंधन अब मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक पर उपलब्ध है। यह संदिग्ध अंतर पहले पेट्रोल के लिए उपलब्ध था जो कुछ महीने पहले देशभर में 100 रुपये प्रति लीटर का आंकड़ा पार कर गया था। मुंबई में अब ईंधन 100 रुपये प्रति लीटर के करीब 99.92 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है।

पेट्रोल की कीमतों में 5 सितंबर से स्थिरता बनी हुई थी, लेकिन तेल कंपनियों ने आखिरकार पिछले हफ्ते अपने पंप की कीमतें बढ़ा दीं और इस हफ्ते उत्पाद की कीमतों में तेजी आई।

मुंबई में पेट्रोल की कीमत 29 पैसे बढ़कर 109.54 रुपये प्रति लीटर हो गई, जबकि डीजल की कीमत 37 पैसे बढ़कर 99.92 रुपये प्रति लीटर हो गई। देशभर में भी, पेट्रोल और डीजल में 30-40 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई, लेकिन राज्य में स्थानीय करों के स्तर के आधार पर उनकी खुदरा दरें भिन्न है।

देश में ईंधन की कीमतें इस साल अप्रैल से इसकी खुदरा दरों में 41 वृद्धि के कारण रिकॉर्ड स्तर पर मंडरा रही हैं। यह कुछ मौकों पर गिरा लेकिन काफी हद तक स्थिर रहा।