होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

भारतीय अर्थव्यवस्था कई अर्थव्यवस्थाओं का समूह है : मीनाक्षी लेखी

भारतीय अर्थव्यवस्था कई अर्थव्यवस्थाओं का समूह है : मीनाक्षी लेखी

नई दिल्ली | विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने मंगलवार को कहा कि भारत सिर्फ 'एक अर्थव्यवस्था नहीं, बल्कि विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं का एक समूह' है। लेखी मंगलवार को आयोजित स्टेट पॉलिसी एन्क्लेव 2021 में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में राज्यों की भूमिका पर बोल रही थीं।

उन्होंने कहा, "जब हम आर्थिक प्रतिमान या उदाहरण को देख रहे हैं और भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में बात कर रहे हैं, तो हमें यह समझना चाहिए कि भारत केवल एक अर्थव्यवस्था नहीं है, बल्कि यह विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं का एक समूह है। संघीय ढांचे के संवैधानिक ढांचे में, केंद्र एक एंकर है, जबकि राज्य अपना काम करने के लिए स्वतंत्र हैं।"

उन्होंने कहा, "देश की भलाई तभी संभव है, जब राज्यों की भलाई सुनिश्चित हो। राज्यों की भलाई का मतलब 'सबका साथ, सबका विकास और सबका प्रयास' है।" लेखी ने यह भी रेखांकित किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास विजन है और उस विजन को राज्यों द्वारा कार्रवाई में दोहराने की जरूरत है और इस प्रकार नीतियों को एक-दूसरे के साथ जोड़ा जाना चाहिए।

भारतीय विविधता के बारे में बात करते हुए लेखी ने कहा, "जो एक राज्य के लिए यथार्थ (सही) है, जरूरी नहीं कि वह दूसरे राज्य के लिए भी सही हो।"

भारतीय अर्थव्यवस्था में विविधता की भूमिका पर बोलते हुए, उन्होंने कहा, "यदि कोई दक्षिणी राज्यों में कुछ इकाई शुरू करना चाहता है, तो भारत के बाहर से किसी भी सामग्री को आयात करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि उत्तर के किसी भी राज्य में वे संसाधन बहुतायत में हो सकते हैं। उसी तरह, अगर हमें पश्चिम में कुछ करना है, तो पूर्व में हमेशा कुछ न कुछ उपलब्ध होता है।"