होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

अब यूपीआई पेमेंट Credit Card Linking QR Code के जरिए शुरू हुआ जानिये कैसे काम करता है

अब यूपीआई पेमेंट Credit Card Linking QR Code के जरिए शुरू हुआ जानिये कैसे काम करता है

रिजर्व बैंक डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए लगातार बदलाव करते रहते है जून में की एमपीसी के साथ बैठक में RBI MPC June 2022 के बाद सेंट्रल बैंक ने बताया था कि अब क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक कर के पेमेंट किया जा सकता है अभी इस सुविधा की शुरुआत करने के लिए रूपे क्रेडिट कार्ड के साथ बात चीत की गई थी.

ऑनलाइन पेमेंट और ट्रांजेक्शन के लिए (Digital Transaction) यूपीआई का इस्तेमाल करने वाले करोड़ों लोगों के लिए एक अच्छी खबर है अब यूपीआई के जरिए सिर्फ सेविंग अकाउंट या करेंट अकाउंट से ही नहीं बल्कि (Credit Card) से भी पेमेंट करने की सुविधा अब शुरू हो गई है यह सुविधा शुरू होने के बाद रूपे क्रेडिट कार्ड के यूजर्स पीओएस मशीनों में कार्ड को स्वाइप या टैप किए बिना ही आसानी से पेमेंट कर सकेंगे.

इन बैंको को सबसे पहले दे रही हैं रूपे क्रेडिट कार्ड और सबसे पहले बैंको नाम लिया जाये तो भारतीय स्टेट बैंक को रूपे क्रेडिट कार्ड ऑफ करने में सबसे पहले नाम आता है फिर उसके बाद आदि बैंको के नाम आते है भारतीय स्टेट  शौर्य एसबीआई रूपे कार्ड और शौर्य सेलेक्ट एसबीआई रूपे क्रेडिट कार्ड, बैंक ऑफ बड़ौदा बैंक के पोर्टफोलियो में भी दो रूपे क्रेडिट कार्ड हैं, जिनके नाम हैं बैंक ईजी और प्रीमियर रूपे क्रेडिट कार्ड, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया , प्लैटिनम रूपे क्रेडिट कार्ड, पंजाब नेशनल बैंक, भी दो रूपे क्रेडिट कार्ड ऑफर कर रहा है, और आईडीबीआई बैंक ,विनिंग्स रूपे सेलेक्ट क्रेडिट कार्ड, सारस्वत  बैंक, प्लैटिनम रूपे क्रेडिट कार्ड, फेडरल बैंक रूपे सिग्नेट क्रेडिट कार्ड,

रिजर्व बैंक की इस सुविधा से अब क्रेडिट कार्ड को बिना स्वाइप किए ही पेमेंट करना संभव होगा. इसके लिए क्रेडिट कार्ड को पहले यूपीआई से लिंक करना होगा. उसके बाद सीधे क्यूआर कोड को स्कैन कर पेमेंट किया जा सकेगा. पेमेंट करते समय आपको ऑप्शन मिलेगा कि आप किस क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से पेमेंट करना चाहते हैं. जैसे ही आप यूपीआई ऐप से पेमेंट शुरू करेंगे, आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा. ओटीपी सबमिट करते ही पेमेंट पूरा हो जाएगा. इससे वै लोगों को आसानी होगी, जो कोई जरूरत पड़ जाने पर क्रेडिट कार्ड से कैश निकालते हैं या उससे पैसे बैंक अकाउंट में ट्रासंफर करते हैं. इन दोनों स्थितियों में लोगों को अतिरिक्त शुल्क टैक्स दोनों देने पड़ जाते थे हैं