होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

भारतीय रिजर्व बैंक ने फिर किया रेपो रेट में इजाफा, बढ़ेगी लोन की EMI

भारतीय रिजर्व बैंक ने फिर किया रेपो रेट में इजाफा, बढ़ेगी लोन की EMI

भारतीय रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की मीटिंग के तीसरे दिन रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ब्याज दरों को बढाने की घोषणा की, RBI ने रेपो रेट में 50 बेसिस पॉइंट की बढ़ोत्तरी की है अब रेपो रेट 5.90 प्रतिशत हो गई है, इससे पहले अगस्त महीने की मीटिंग में भी RBI ने रेपो रेट को 4.90% से बढ़कर 5.40% कर दिया था।

रेपो रेट वह दर होती है जिस पर वाणिज्य-बैंक रिजर्व बैंक से कर्ज लेती है, जब RBI रेपो रेट बढ़ता है तब बैंको को महंगा कर्ज मिलता है जिससे बैंक भी ब्याज दरों को बढ़ा देते हैं, जब भारतीय रिजर्व बैंक को लगता है कि बाजार में तरलता ज्यादा है तो उसे कम करने के लिए भी रेपो रेट ही बढ़ाया जाता है तथा जब अर्थव्यवस्था में ज्यादा महंगाई होती है तो उसे भी कंट्रोल करने के लिए भी रेपो रेट बढ़ाया जाता है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा पूरा विश्व संकट से गुजर रहा है और देशों के शेयर बाजारों में भारी उथल पुथल मची हुई है, हर सेक्टर के लिए महंगाई एक चिंता का विषय बनी हुई है तथा अमेरिकी डॉलर की वजह से देशों की मुद्राओं पर बहुत दबाव है लेकिन इस माहौल में भी भारत की आर्थिक स्थिति अच्छी है, खुदरा महंगाई लक्ष्य से ऊपर है इसीलिए दरों को बढ़ाने का फैसला लिए गया है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने स्टैंडिंग डिपॉजिट फैसिलिटी को 5.15 से बढ़ाकर 5.65% कर दिया है, मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी 5.65 से बढ़ाकर 6.15% हो गया है, भारत की वित्तीय वर्ष 2023 में ग्रोथ 7 प्रतिशत रहने की सम्भावना है।