होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

WPI Inflation: महंगाई ने तोड़ा रिकॉर्ड, अप्रैल में थोक मुद्रास्फीति 15.08 प्रतिशत

WPI Inflation: महंगाई ने तोड़ा रिकॉर्ड, अप्रैल में थोक मुद्रास्फीति 15.08 प्रतिशत

नई दिल्ली | थोक मूल्य सूचकांक के आधार पर भारत की थोक मुद्रास्फीति ( Inflation ) अप्रैल में बढ़कर 15.08 प्रतिशत हो गई है, जो मार्च में 14.55 प्रतिशत थी। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। एक साल पहले डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति 10.74 प्रतिशत थी।


WPI पिछले एक साल से अधिक समय से दोहरे अंकों में है। डब्ल्यूपीआई खाद्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति की दर मार्च में 8.71 प्रतिशत से मामूली रूप से बढ़कर अप्रैल में 8.88 प्रतिशत हो गई। एक आधिकारिक बयान में मंगलवार को कहा गया है कि अप्रैल में मुद्रास्फीति की उच्च दर मुख्य रूप से पिछले साल की तुलना में खनिज तेलों, मूल धातुओं, कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, खाद्य पदार्थों, गैर-खाद्य वस्तुओं, रसायनों और रासायनिक उत्पादों की कीमतों में वृद्धि के कारण है।


थोक मूल्य सूचकांक ( WPI ) के अनंतिम आंकड़े हर महीने की 14 तारीख (या अगले कार्य दिवस) को संदर्भ महीने ( Reference Month ) के दो सप्ताह के अंतराल के साथ जारी किए जाते हैं और संस्थागत स्रोतों और देश भर में चयनित विनिर्माण इकाइयों से प्राप्त आंकड़ों के साथ संकलित किए जाते हैं। इसके अलावा पिछले सप्ताह जारी आंकड़ों से पता चला है कि भारत की खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में बढ़कर 7.79 प्रतिशत हो गई है, जो लगातार चौथे महीने केंद्रीय बैंक RBI की निर्धारित सीमा या टारगेट से ऊपर रही है।