तमिलनाडु में कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी, कलेक्टरों को मिले अलर्ट रहने के निर्देश

तमिलनाडु में कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी, कलेक्टरों को मिले अलर्ट रहने के निर्देश

चेन्नई| तमिलनाडु में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ने पर राज्य सरकार ने कलेक्टरों को सचेत रहने के निर्देश दे दिए है। इस संबंध में तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे. राधाकृष्णन शुक्रवार को निर्देश जारी किया है। 


जानकारी के मुताबिक राज्य में कोरोना संक्रमण के मामलों में मामूली वृद्धि के बाद सभी जिला कलेक्टरों (डीसी) को सतर्क रहने को कहा है। यह निर्देश शुक्रवार को जारी किया गया। जबकि वृद्धि मामूली है, टेस्ट पॉजिटिविटी दर (टीपीआर) जो 4 सितंबर को 0.97 प्रतिशत थी, 10 सितंबर को 1 प्रतिशत पर पहुंच गई।


स्वास्थ्य सचिव ने डीसी को सकरुलर में कहा कि टीपीआर में वृद्धि के कारण नहीं है, बल्कि कोविड मामलों में वास्तविक वृद्धि के कारण है, जिसे हल्के में नहीं लिया जा सकता है। उन्होंने डीसी को टीकाकरण बढ़ाने और लोगों के बीच कोविड -19 उचित व्यवहार लागू करने के लिए प्रभावित किया।


चेन्नई, चेंगलपट्टू, कोयंबटूर, तिरुवल्लूर, तिरुपुर, इरोड, नागपट्टिनम और मदुरै जैसे क्षेत्रों में पिछले कुछ दिनों से टीपीआर परिणामों में उतार-चढ़ाव आया था।


राधाकृष्णन ने उपायुक्तों को बताया कि कार्यस्थलों और समुदायों में कोविड-19 के नए समूहों का उभरना एक चिंताजनक प्रवृत्ति है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार, चेन्नई में एक परिवार ने शुक्रवार को पांच कोविड सकारात्मक मामले दर्ज किए।


जबकि चेन्नई के सरकारी अस्पतालों में नए कोविड -19 रोगियों का प्रवेश पिछले एक महीने में समान रहा, डॉक्टरों ने, सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार, निजी अस्पतालों में कोविड -19 रोगियों के प्रवेश में मामूली वृद्धि हुई थी।


चेन्नई में जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ सुचित्रा वी. मेनन ने आईएएनएस को बताया, "निजी अस्पतालों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के दाखिले में मामूली या मामूली वृद्धि हुई है। यह मामूली बढ़ोत्तरी है लेकिन महामारी के इतिहास को देखते हुए, राज्य सरकार कोई जोखिम नहीं ले रहा है और इसलिए सभी जिला कलेक्टरों को स्वास्थ्य सचिव का निर्देश है।"

0Comments