होम > क्राइम

श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और खौफनाक हत्या -medhajnews

 श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और खौफनाक हत्या -medhajnews

आजमगढ़: दिल्ली के महरौली इलाके में श्रद्धा हत्याकांड के तुरंत बाद उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में एक ऐसा ही अपराध हुआ, जहां एक व्यक्ति को अपनी पूर्व प्रेमिका की हत्या करने  के बाद उसके शरीर के अंगों को छह भागों में काटने केआरोप में गिरफ्तार किया गया।

आरोपी प्रिंस यादव को 19 नवंबर को पुलिस ने हिरासत में लिया था और एक मुठभेड़ के बाद औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर लिया गया था, जब उसने एक तालाब में ले जाने के दौरान पुलिस से बचने की कोशिश की थी, जहां उसने आराधना प्रजापति के रूप में पहचानी गई अपनी प्रेमिका का सिर फेंक दिया था।

महिला की हत्या का मामला 15 नवंबर को तब सामने आया जब कुछ स्थानीय लोगों को पासचिन पट्टी गांव के कुएं में शव के टुकड़े  मिले। पुलिस ने बाद में मृतका  का सिर गांव से करीब छह किलोमीटर दूर एक तालाब से बरामद किया।


श्रद्धा जैसा मर्डर केस


पुलिस के अनुसार, 10 नवंबर को प्रिंस ने अपने चचेरे भाई सर्वेश की मदद से इशाकपुर गांव की आराधना का गला घोंट दिया और उसके शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर कुएं में फेंक दिया.

पुलिस ने कहा कि दोनों एक रिश्ते में थे और फरवरी में आराधना के परिवार ने उसकी शादी दूसरे लड़के से कर दी थी, जिसके बाद प्रिंस परेशान हो गया था। जांच में आगे पता चला कि पीड़िता की मर्जी के खिलाफ शादी करने के बाद यादव उसे सजा देना चाहता था।

पुलिस ने कहा कि प्रिंस के परिवार के सदस्यों ने भी 22 वर्षीय महिला की हत्या और शव को ठिकाने लगाने में उसकी मदद की।

कैसे रचा था प्रिंस यादव ने मर्डर का प्लान?

पुलिस ने बताया कि प्रिंस का आराधना के साथ पिछले दो साल से अफेयर था और वह उससे शादी करना चाहता था। हालांकि, आरोपी नौकरी के लिए एक खाड़ी देश चला गया, जब महिला के परिवार ने फरवरी में उसकी शादी किसी अन्य व्यक्ति से कर दी।

जब प्रिंस को इस बारे में पता चला तो वह वापस आ गया और आराधना पर शादी तोड़ने का दबाव बनाने लगा। लेकिन, वह इसके लिए तैयार नहीं थीं। 10 नवंबर को आरोपी ने उसे पास के एक मंदिर में जाने के लिए मना लिया।

आजमगढ़ के एसपी अनुराग आर्य ने कहा कि मंदिर में पूजा करने के बाद उन्होंने एक रेस्तरां में खाना खाया और बाद में आराधना को पश्चिम पट्टी गांव में उसके मामा के यहां ले  गया।

आर्य ने आगे कहा कि आरोपी पीड़िता को उसके मामा के गांव के एक खेत में ले गया और गला दबा कर उसकी हत्या कर दी। आर्य ने कहा कि पीड़िता की पहचान छुपाने के लिए प्रिंस और सर्वेश ने शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए और उसे कुएं में फेंक दिया।