होम > क्राइम

अपने गुलाबी हेलमेट के कारण बाइक चोर बना पुलिस का शिकार

अपने गुलाबी हेलमेट के कारण बाइक चोर बना पुलिस का शिकार

यह घटना हैदराबाद की है जहाँ गल्फ देश से तेलंगाना के कामारेड्डी शहर लौटा व्यक्ति जिसे बाइक चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया, उसे उसके एक गुलाबी हेलमेट की वजह से ही उसे आसानी से ट्रैक किया जा सका और वह गुलाबी हेलमेट भी उस व्यक्ति ने चोरी किया था। बाइक चोर की पहचान रियाजुद्दीन के रूप में हुई है। 

पुलिस के अनुसार, सिकंदराबाद में संगीत चौराहे के पास से बाइक चोरी करने के कुछ दिन बाद, पहले आरोपी रियाजुद्दीन ने चोरी किये हुए हेलमेट को पहना और फिर  चोरी की हुई बाइक को बेचने के लिए कामारेड्डी शहर गया। शिकायतकर्ता की बाइक चोरी होने की शिकायत मिलने के बाद जब पुलिस ने बाइक चोरी होने वाले स्थान की सीसीटीवी फुटेज को देखना शुरू किया, तो हेलमेट के विशिष्ट गुलाबी रंग के कारण पुलिस ने बाइक को आसानी से ट्रैक करना शुरू किया। अन्य मामलों में ट्रैकिंग करना थोड़ा मुश्किल होता है।

पुलिस द्वारा राजमार्ग पर स्थित दो टोल प्लाजा से सीसीटीवी फुटेज और सिकंदराबाद से कामारेड्डी तक 100 किमी से अधिक के लगभग 30 सीसीटीवी कैमरों को प्राप्त किया, चेक किया और आरोपी को ट्रेक किया। फिर सुरागों के आधार पर पुलिस ने उसे धार दबोचा और उस बाइक के साथ-साथ ही चोरी की दस बाइकें और भी बरामद हुईं।

पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया की गल्फ देश में रहते हुए उसे लकवे का दौरा पड़ा था और उसने अपनी पूरी बचत को लकवे के इलाज पर खर्च कर दिया था। क्योकि गल्फ देश में उसकी देखभाल करने वाला कोई नहीं था, इसलिए वह यहाँ भारत में अपने घर वापस लौट आया।  वह आर्थिक संकट में था, रियाजुद्दीन की आर्थिक स्थिति सही नहीं थी इसलिए उसके दोस्तों ने उसकी घर वापसी में मदद की।

घर वापसी के बाद भी उसकी आर्थिक स्थिति में कोई फर्क नहीं पड़ा, जिसके कारण उसे अपना और अपने परिवार का जीवनयापन करने के लिए रिश्तेदारों और दोस्तों से पैसे उधार लेने के लिए मजबूर होना पड़ा। पुलिस ने बताया कि आरोपी रियाजुद्दीन चोरी की बाइकों को बेच कर उससे प्राप्त पैसों का प्रयोग कर्ज चुकाने और घर के बिलों को भरने के लिए करता था।