होम > क्राइम

पुराने करीमनगर में बड़े पैमाने पर हो रही अवैध बालू खनन

पुराने करीमनगर में बड़े पैमाने पर हो रही अवैध बालू खनन

करीमनगर में पुलिस विभागों के अधिकारी ठेकेदारों से हाथ मिलने के चलते अवैध रेत उत्खनन और परिवहन की बढ़त से जिले में सरकारी खजाने को भारी नुकसान हो रहा है। गोदावरी डेल्टा में उपलब्ध रेत गुणवत्ता में अच्छी है जिसके कारण रेत की बहुत मांग है क्योकि रेत निर्माण के उद्देश्य से उपयोग की जाती है। करीमनगर, कई दूसरे जिलों के ठेकेदार और राजनीतिक नेता थोड़े ही समय में बालू का कारोबार करके अमीर बन गए। बड़े ठेकेदार करीमनगर जिले से बालू खरीदते हैं और गुप्त स्थानों पर फेंक देते हैं। ठेकेदार अधिकारियों के साथ हाथ मिलकर चल रहे है अनियमित रूप से रेत खनन पर्यावरण में गंभीर खतरा पैदा कर रही है।

 

कार्य दिवसों में जो व्यक्ति रेत चाहते हैं उनको सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे के बीच सरकार को कर का भुगतान करना होगा ड्यूटी करने वाले अधिकारी को ट्रैक्टरों को नंबर आवंटित करने के बाद दो ट्रिप की अनुमति देकर अतिरिक्त भार के लिए विशेष कर भी लगाते हैं। ठेकेदार अधिकारियों पर दबाव बना रहे हैं, क्योकि भारी बारिश में नहरों, नदियों और नालों से रेत की खुदाई करना मुश्किल हो जाता है। अधिकारी ठेकेदारों को रात के समय और रविवार को खनन करने की अनुमति दे रहे हैं। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया खुदाई करके, कई गड्ढे बन जाते हैं जिससे दुर्घटनाएं होती हैं और लोगों की जान जाती है। हाल ही में राजन्ना सिरसिला जिले में बच्चों ने पानी में तैरने की कोशिश में अपनी जान गंवा दी धिकारियों से अवैध रेत खनन को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने का आग्रह किया।