होम > शिक्षा

लुधियाना में 38 स्कूलों को एनईपी लैब के रूप में विकसित किया जाएगा- Medhaj News

लुधियाना में 38 स्कूलों को एनईपी लैब के रूप में विकसित किया जाएगा- Medhaj News

PM SHRI: केंद्र सरकार के प्राइम मिनिस्टर स्कूल फॉर राइजिंग इंडिया (PM SHRI) के तहत जिले के 38 स्कूलों को 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति लैब' के रूप में विकसित किया जायेगा। 60:40 के अनुपात में संघ और राज्य सरकारों द्वारा संयुक्त रूप से वित्त पोषित, इस योजना में कुल 563 स्कूल होंगे जिसमे से 115 उच्च प्राथमिक और 448 प्राथमिक स्कूल होंगे। विशेष रूप से, केंद्र, राज्य सरकार और स्थानीय निकायों द्वारा प्रबंधित स्कूल योजना के पात्र हैं।


जिले के 19 ब्लॉकों में से प्रत्येक से दो स्कूलों को बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर, सेफ्टी, टीचिंग स्टाफ, लर्निंग आउटकम, ग्रीन इनिशिएटिव, व्यावसायिक शिक्षा और मध्याह्न भोजन योजना के कार्यान्वयन सहित कई पैमानों के आधार पर चुना जाएगा। जो स्कूल योग्यता मानदंडों को पूरा करते हैं, लेकिन पूरा डेटा जमा नहीं किया है, उन्हें ऐसा करने के लिए कहा गया है। जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) ने अपने पत्र में स्कूलों से संबंधित जानकारी 16 नवंबर से पहले पीएम श्री (PM SHRI) पोर्टल पर अपलोड करने को कहा है।

चयनित स्कूलों को इस स्कीम से क्या फायदा मिलेगा?

चयनित स्कूल आधुनिक बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर, स्मार्ट कक्षाओं और खेल सुविधाओं से लैस होंगे और उन्हें हरित परिसरों में विकसित किया जाएगा।

गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सिमेट्री रोड की प्रिंसिपल चरणजीत कौर जिनका स्कूल योजना के लिए योग्य स्कूलों में से एक है, ने कहा, “योजना के तहत, फंड सीधे स्कूल अधिकारियों को हस्तांतरित किया जाएगा और छात्र सीधे लाभ उठा सकेंगे। उन्होंने कहा कि यह योजना सौर पैनलों और जल पुनर्चक्रण संयंत्रों (water recycling plants) की स्थापना सहित नवीकरणीय ऊर्जा के लिए बुनियादी ढांचे को विकसित करने में मदद करेगी।

योजना के अनुसार, देश के 14,000 से अधिक स्कूलों को 2022-2027 से 27,360 करोड़ रुपये की लागत से बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर को अपडेट करने के लिए पांच साल के लिए धन उपलब्ध कराया जाएगा। सूचना के बाद स्कूलों का फिज़िकल वेरिफिकेशन भी किया जाएगा।