होम > शिक्षा

इंजीनियरिंग के पहले वर्ष की 20 पाठ्यपुस्तकें मराठी में लॉन्च की गयी – Medhaj News

इंजीनियरिंग के पहले वर्ष की 20 पाठ्यपुस्तकें मराठी में लॉन्च की गयी – Medhaj News

Maharashtra: अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और तकनीकी शिक्षा निदेशालय (डीटीई) के साथ संयुक्त रूप से राज्य सरकार के उच्च और तकनीकी शिक्षा विभाग ने मराठी में डिग्री और डिप्लोमा दोनों इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों के लिए 20 पाठ्यपुस्तकें लॉन्च कीं। केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष सरकार ने मुंबई विश्वविद्यालय के कलिना परिसर में आयोजित कार्यक्रम में पाठ्यपुस्तकों का विमोचन किया।

सभी 20 पाठ्यपुस्तकें इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम के पहले वर्ष के लिए हैं जिसमे से 11 डिप्लोमा के लिए, और 9 डिग्री के लिए। इसका उद्देश्य छात्रों को विशेष रूप से मराठी माध्यम के स्कूलों के छात्रों को फंडामेंटल पैटर्न्स को बेहतर ढंग से समझने में मदद करना है। यह नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप विभिन्न भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग शिक्षा प्रदान करने के एआईसीटीई के प्रयास का एक हिस्सा है। महाराष्ट्र में डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर टेक्नोलॉजिकल  यूनिवर्सिटी, लोनेरे के विषय विशेषज्ञों और शिक्षकों की एक टीम ने इन पाठ्यपुस्तकों के अनुवाद पर काम किया है। इन पाठ्यपुस्तकों की सॉफ्ट कॉपी एआईसीटीई (AICTE) द्वारा -कुंभ पर भी उपलब्ध कराई जाएगी, जिसमें 11 अन्य भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग पाठ्यपुस्तकें भी हैं।

महाराष्ट्र में मराठी में इंजीनियरिंग शिक्षा की वर्तमान स्थिति पर डीटीई के निदेशक अभय वाघ ने कहा, 365 पॉलिटेक्निक संस्थानों में से 163 ने मराठी माध्यम विकल्प चुना है और उनमें से अधिकांश महाराष्ट्र के अंदरूनी या ग्रामीण हिस्सों से हैं। इंजीनियरिंग डिग्री पाठ्यक्रमों के मामले में से केवल एक पुणे स्थित पिंपरी चिंचवाड़ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (पीसीसीओई) वर्तमान में मराठी में डिग्री पाठ्यक्रम में शिक्षा प्रदान कर रहा है, हम अन्य को भी आगे आने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

राज्य के उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने कहा, हम प्रोत्साहन के लिए प्रोत्साहन (Incentive) राशि देने का भी काम कर रहे हैं। हाल ही में, राज्य के चिकित्सा शिक्षा विभाग ने यह भी घोषणा की कि एमबीबीएस पाठ्यपुस्तकें मराठी में उपलब्ध कराई जाएंगी।

एआईसीटीई के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने कहा कि छात्रों को समाधान प्रदाता (solution-provider) बनने के लिए प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है।