होम > शिक्षा

डॉ. दिगंबर तुकाराम शिर्के मुंबई विश्वविद्यालय के नए कुलपति नियुक्त किए गए

डॉ. दिगंबर तुकाराम शिर्के मुंबई विश्वविद्यालय के नए कुलपति नियुक्त किए गए

मुंबई:  महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शुक्रवार को पूर्व वीसी डॉ सुहास पेडनेकर के पद से हटने के बाद, सभी राज्य विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति की क्षमता में डॉ दिगंबर तुकाराम शिर्के को मुंबई विश्वविद्यालय का प्रभारी वीसी नियुक्त किया। पेडनेकर को वर्ष 2018 में वीसी के रूप में नियुक्त किया गया था। भले ही उनका पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं हुआ है लेकिन 65 वर्ष की सेवानिवृत्ति की आयु तक पहुंचने के बाद डॉ पेडनेकर ने शनिवार को पद छोड़ दिया।

राज्यपाल कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया की राज्य सरकार में बदलाव के बाद अब मुंबई विश्वविद्यालय के लिए नए वीसी की तलाश शुरू हो गई है, सर्च कमेटी इस पर काम शुरू कर चुकी है  और यह प्रक्रिया पूरी करने और सुझाये गए नामों का विवरण तैयार करने में दो-तीन महीने लगेंगे। तब तक डॉ. शिर्के एमयू का नेतृत्व करते रहेंगे।

कोल्हापुर जिले के हटकनंगले तालुका के वडगांव के रहने वाले डॉ. शिर्के के पास 35 साल से अधिक का शैक्षणिक, शोध और प्रशासनिक अनुभव है। 2005 से 2015 तक शिवाजी विश्वविद्यालय में सांख्यिकी विभाग के प्रमुख के रूप में कार्य करने के बाद, डॉ. शिर्के को उसी विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया गया।

पेडनेकर का कार्यकाल समाप्त होने के साथ-साथ अन्य विश्वविद्यालय प्राधिकरण जैसे प्रो-वीसी, और रजिस्ट्रार सभी अपने-अपने पदों को छोड़ देंगे। राज्य और केंद्र सरकार के बीच तनातनी के कारण मुंबई विश्वविद्यालय के वीसी की तलाश कुछ समय के लिए अधर में थी। शिव सेना नेता बाल ठाकरे के नेतृत्व वाली महा अघाड़ी सरकार ने एक विधेयक पास  कर उस महाराष्ट्र विश्विधालय अधिनियम में परिवर्तन कर दिया जिसके अंतर्गत राज्य के विश्वधायालयों में वीसी की नियुक्ति करने का अधिकार राज्यपाल से राज्य के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री को स्थानांतरित की गयी थी।

विधेयक अंतिम मंजूरी के लिए राज्यपाल के कार्यालय में लंबित रहा। राज्यपाल के रुख के बाद, राज्य सरकार ने भी सर्च कमेटी में अपने प्रतिनिधि की नियुक्ति में देरी की। अंतत: एडिशनल चीफ सेक्रेरटरी आनंद लिमये को वीसी सर्च कमेटी में राज्य सरकार की तरफ से नामित किया गया।