होम > शिक्षा

आईआईटी-मद्रास ने ग्रामीण स्कूली छात्रों के लिए ग्रीष्मकालीन एसटीईएम कार्यक्रम शुरू किया

आईआईटी-मद्रास ने ग्रामीण स्कूली छात्रों के लिए ग्रीष्मकालीन एसटीईएम कार्यक्रम शुरू किया

सुप्रसिद भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), मद्रास   ग्रामीण स्कूली छात्रों के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (Science Technology Engineering Maths ) पर एक ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम शुरू करने  जा  रहा है। यह कार्यक्रम 20 से 25 जून, 2022 तक होगा, जो कि ग्रामीण स्कूली छात्रों के चहुमुखि विकास मे लाभदायक होगा।

यह  कार्यक्रम 20 से 25 जून, 2022 तक IIT-मद्रास परिसर में होगा, और देश भर के वंचित छात्रों को STEM से संबंधित विषय का अध्ययन कराया  जायेगा ।संस्था  का लक्ष्य देश भर के सरकारी स्कूलों के कम से कम एक लाख छात्रों तक पहुंचना है।  यह कार्यक्रम एक ऑनलाइन सेटअप में होगा ऐसा कोरोनावायरस महामारी के कारण शिक्षा क्षेत्र के बदलते परिवेश को ध्यान में रखते हुए किया जा रहा  है  इसे अंग्रेजी और तमिल भाषा  में पढ़ाया जाएगा।

अब तक, इस कार्यक्रम के साथ शुरू करने के लिए 100 छात्रों का चयन किया गया है। IIT मद्रास का उद्देश्य छात्रों को वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति में उनकी रुचि को आगे बढ़ाने के लिए पढ़ाना और प्रेरित करना है। विभाग ने इस कार्यक्रम के लिए छात्रों का चयन करते समय वंचित ब्लॉकों के छात्रों को महत्व दिया है। यह 100 छात्र केवल एक शुरुआत है और आगे  कई और छात्रों को इसमें चुना जाएगा। अंबिल महेश पोय्यामोझी ने कहा कि  इस कार्यक्रम में 70 प्रतिशत व्यावहारिक घटक है और बाकी 30 प्रतिशत सिद्धांत है।

तमिलनाडु सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कक्षा 10 के 100 छात्रों का चयन किया गया है। विभाग के अधिकारी वंचित पृष्ठभूमि के छात्रों की पहचान करते हैं और उन तक पहुंचते हैं और फिर आईआईटी-मद्रास को एक सूची देते हैं। विश्वविद्यालय तब इन छात्रों तक पहुंचता है और परिवहन, आवास आदि की व्यवस्था करता है। छात्र परिसर में एक सप्ताह के लिये रहेगे ,जहां उनका इलेक्ट्रॉनिक किट के साथ स्वागत किया जाएगा।

Ram Kumar