होम > शिक्षा

ड्रॉपआउट दर को रोकने के लिए ओडिशा 100 उच्च विद्यालयों का अपग्रेड करेगा

ड्रॉपआउट दर को रोकने के लिए ओडिशा 100 उच्च विद्यालयों का अपग्रेड  करेगा

ओडिशा सरकार अगले शैक्षणिक सत्र से 100 उच्च विद्यालयों को उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में अपग्रेड करने की योजना बना रही है, ताकि ड्रॉपआउट दर में कमी आये , सामाजिक विकास का एक उपाय हो सके।

स्कूल और जन शिक्षा मंत्री श्री समीर रंजन दास ने कहा कि स्कूलों को अपग्रेड करने के कदम उन ब्लॉकों में उठाए जाएंगे जहां उच्च माध्यमिक विद्यालय मौजूद हैं।उन्होंने  कहा कि छात्र अक्सर मैट्रिक पास करने के बाद या तो प्लसनहीं होने के कारण या पास में कॉलेज होने के कारण बीच में ही पढ़ाई छोड़ देते हैं। प्लस टू को शामिल कर स्कूलों को हायर सेकेंडरी में अपग्रेड करने से भी छात्राओं को फायदा होगा। उपलब्ध नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय औसत 16.1 प्रतिशत के मुकाबले ओडिशा में स्कूल छोड़ने की दर 16.06 प्रतिशत थी।

2020-21 में, उच्च माध्यमिक स्तर में प्रवेश करने से पहले 49,000 से अधिक छात्रों ने स्कूल छोड़ दिया था, जिसमें 15,792 आदिवासी और अनुसूचित जाति वर्ग के 11,045 छात्र शामिल थे। महिला एवं बाल विकास विभाग के एक सर्वेक्षण में पाया गया था कि 2021-22 शैक्षणिक सत्र में 7,717 किशोरियों (11 से 14 वर्ष की आयु वर्ग में) ने स्कूल छोड़ दिया था। 2019-20 में, 8,168 छात्र माध्यमिक विद्यालय के बाद बाहर हो गए थे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि छात्रों को लाभ पहुंचाने के अलावा, यह कदम राज्य में स्कूल छोड़ने की दर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

इन स्कूलों को अपग्रेड करने का कदम उच्च ड्रॉपआउट दर के लिए आलोचना के बीच आया है। इस साल आयोजित मैट्रिक परीक्षा में 43,000 से अधिक छात्रों के शामिल नहीं होने की खबरों के बाद राज्य सरकार की आलोचना हुई थी।फिर इन छात्रों को स्कूलों में वापस लाने के लिए पांच सूत्री कार्यक्रम की शुरुआत की गई। योजना के तहत शिक्षकों को घर-घर जाकर माता-पिता और छात्रों के साथ चर्चा करने की आवश्यकता है। इस कदम का उद्देश्य माता-पिता को अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए राजी करना है।

R