होम > मनोरंजन

मैं बोझ नहीं बेटी हूँ

मैं बोझ नहीं  बेटी हूँ

मैं बोझ नहीं, भविष्य हूँ

बेटा नहीं, पर बेटी हूँ

मेरे अंदर भी जान  है 

मैं भी जीना चाहती हूँ 


भावनाओ मे डूबी हूँ 

मैं बेटा नही बेटी हूँ


सबने हमे धुतकारा 

महत्व न समझा हमारा 


माँ मैं तुजसे ही आयी हूँ 

बेटा नहीं, पर बेटी हूँ


बस एक मौका तो दिया होता 

वो क्या कर सकता है, जो मै नहीं कर सकती  


मैं बोझ नहीं, भविष्य हूँ

बेटा नहीं, पर बेटी हूँ


............DS............


                                                                                                                                                                     दीपांजली शर्मा