होम > मनोरंजन > हास्य

गाँव में प्रवचन हो रहे थे बाबा जी बोले

गाँव में प्रवचन हो रहे थे बाबा जी बोले

गाँव में प्रवचन हो रहे थे बाबा जी बोले

-----------------------------------------------------------

गाँव में प्रवचन हो रहे थे

बाबा जी बोले-” मृत्यु एक अटल सत्य है।इस गाँव का प्रत्येक

मनुष्य कभी ना कभी अवश्य मरेगा। “

बाबा जी के वचन सुनकर वहाँ उपस्थित गाँव के सभी श्रोता रोने लगे।

उन्हीं के बीच बैठा चिंटू जोर जोर से हँसने लगा।

बाबा जी  को उस पर बहुत दया आयी।

उन्होंने पूछा—” क्यों हँस रहे हो ?

चिंटू — मैं इस गाँव का नहीं हूँ !!

बाबा जी ने उसे तबला फेंककर मारा !!

 ----------------------------------------------------------- 

वर्मा जी लाईट जाने के बाद , मोमबत्ती ले कर टायलेट जा रहे थे.

कोई कम्बख्त फूँक मार के कह गया-हैपी बर्थ डे टू यु ।

.अब बताओ ….इमरजेन्सी में भी मजाक..!

 -----------------------------------------------------------

हवलदार:- सर कल रात सभी कैदियों ने जेल में रामायण प्ले किया था।

जेलर:- ये तो अच्छी बात है, इसमें इतना परेशान क्यों हो रहे हो?

हवलदार:- सर परेशानी ये है कि हनुमान बना कैदी अभी तक ‘संजीवनी लेकर वापस नहीं आया

 ----------------------------------------------------------- 

ग्राहक – भाई चूहे मारने की दवाई देना!

दुकानदार -घर ले जाना है !

ग्राहक – नही चूहा साथ लेकर आया हूँ ,इधर ही खिला दूँगा!

 ----------------------------------------------------------- 

आजकल के बच्चो को क्या पता कि struggle क्या है

हमने वो समय भी देखा है

जब मोबाइल मे “S” टाइप करना हो तो “7” के बटन को चार

बार दबाना पड़ता था

 ----------------------------------------------------------- 

साला दो बाते aaj तक समझ मे nhi आयी

1:- जिसने पहली बार घडी बनाया उसने समय कैसे मिलाया होगा और

2:- जिसने पहली बार दही जमाया वो जोरन कहाँ से लाया होगा??

 -----------------------------------------------------------AR