होम > मनोरंजन > यात्रा

मोलिंग राष्ट्रीय उद्यान अरुणाचल प्रदेश

मोलिंग राष्ट्रीय उद्यान अरुणाचल प्रदेश

मोलिंग राष्ट्रीय उद्यान भारत के राज्य अरुणाचल प्रदेश में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है। यह राज्य वर्षों से सांस्कृतिक रूप से भारत में एकीकृत है, जो अपनी विशिष्ट परंपराओं को बनाये रखे है। यह सियांग नदी के किनारे पर 483 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है। 

अरुणाचल प्रदेश जाने से पहले आपको यहाँ घूमने के लिए इनर लाइन परमिट लेना होगा। जिसे आप ऑन लाइन और दिल्ली, गुवाहटि, शिलोग, तेजपुर और जोरहाट से यहाँ के रेजिडेंट कमिश्नर के ऑफिस से बनवा सकते है। बहुत ही खड़ी और ऊबड़-खाबड़ पहाड़ी भूमि कारण पार्क के भीतर तक पहुंचना बहुत मुश्किल है। पार्क को सुलभ बनाने के लिए कोई सड़क संचार नहीं है। मोलिंग राष्ट्रीय उद्यान सुंदर वनस्पतियों के साथ अपने प्राकृतिक आवासों में जंगली जानवरों और हाथियों को देखने के लिए प्रसिद्ध है। यहां ठहरने के लिए सबसे अच्छी जगह पासीघाट के पास सर्किट हाउस है, जिसे पार्क अधिकारियों के संपर्क में रखकर बुक किया जा सकता है।

मौलिंग नेशनल पार्क की उष्णकटिबंधीय और ठंड के बीच पौधों और जानवरों के विकास के लिए अनुकूल और आदर्श स्थिति बनती है। इस क्षेत्र में सजावटी पौधे जैसे फॉक्सटेल, ऑर्किड प्रचुर मात्रा में उगते हैं। राज्य शांत झीलों, झरनों, बर्फ से ढकी बड़ी – बड़ी चोटियों, और कई खूबसूरत और प्रसिद्ध जगहों के कारण जाना जाता है। 

मौलिंग नेशनल पार्क स्तनधारियों की विभिन्न प्रजातियों जैसे बाघ, तेंदुआ, कोरल, सीरो, टाइगर, जंगली भैंस, पैंथर, टैकिन,  हाथी, लाल पांडा, हॉग हिरण, बार्किंग हिरण, हूलॉक गिब्बन, सांभर आदि विभिन्न प्रजातियों को देखने का मौका मिलेगा। तेंदुए जैसे विभिन्न जानवरों का घर माना जाता है।

अब तक 38 विभिन्न परिवार के अंतर्गत एक सौ चौदह प्रकार के पक्षी प्रजातियों को पार्क में देखा गया है। पक्षियों की प्रजातियां जैसे बत्तख, मोनाल तीतर, ट्रैगोपन, विशालकाय हॉर्नबिल, उल्लू, वन ईगल, चकमा, हरा कोकोआ, मयूर, असम बांस दलिया, फेयरी ब्लूबर्ड आदि पार्क में विभिन्न प्रकार के पक्षी हैं।कोबरा सहित भारतीय अजगर,  जालीदार अजगर, मॉनिटर छिपकली आदि सरीसृपों पाये जाते है।

मौलिंग नेशनल पार्क सड़क मार्ग के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, हालांकि यात्रा थोड़ी ऊबड़-खाबड़ हो सकती है।