होम > मनोरंजन > यात्रा

लाल केकड़ों की बारिश

लाल केकड़ों की बारिश

ऑस्ट्रेलिया दुनिया का सबसे छोटा महाद्वीप है। इसके अविश्वसनीय प्राकृतिक अजूबे, रेगिस्तान, समुद्र तट, वनस्पति उद्यान और राष्ट्रीय उद्यान छुट्टी के लिए एकदम सही स्थान हैं।

हिंद महासागर में स्थित आस्ट्रेलिया के क्षेत्राधिकार में आने वाला चारो ओर से समुंद्र से घिरा हुआ एक द्वीप है। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में क्रिसमस द्वीप नाम का आइलैंड स्थित है। ऑस्ट्रेलिया में क्रिसमस द्वीप एक ऐसा द्वीप है, जहां हर जगह सिर्फ केकड़े ही केकड़े नजर आते हैं। मानवीय हस्ताक्षेप कम होने की वजह से यहां उच्च स्तरीय पेड़-पौधों और जीवों में विविधता मिलती है।

अक्‍टूबर या नवंबर महीने में इस आइलैंड का नजारा ऐसा लगता है, जैसे आइलैंड पर केकड़ों की बारिश हुई हो। क्रिसमस द्वीप पर लाखों केकड़ों की फौज, सड़को पर दिखी देती है। पूरी सड़क केकड़े के कारण लाल दिखाई देती है। 

हर साल पहली बार‍िश के बाद अक्‍टूबर या नवंबर महीने में ये केकड़े प्रजनन करने के लिए एक छोर पर स्थित जंगल से दूसरे छोर पर स्थित भारतीय महासागर तक का सफर तय करते हैं। भारी बारिश के बाद नर केकड़े अपने बिलो से निकलते हैं और फिर तटों की ओर बढ़ते हैं। यहीं पर उनकी मादा केकड़ों से मुलाकात होती है। प्रत्‍येक मादा केकड़ा प्रवास के दौरान समुद्र में अगले 5 या 6 दिनों तक लाखो अंडे देती है। एक महीने बाद लाल रंग के केकड़ों के ये बच्‍चे तटों की ओर आ जाते है।

क्रिसमस द्वीप कैसे पहुंचे :- यह द्वीप प्रशांत महासागर के रस्ते देशों से जोड़ते हैं। यहाँ पहुंचे का दूसरा रास्ता हवाई मार्ग है, जो क्रिसमस आईलैंड एक मात्र हवाईअड्डा है।