होम > मनोरंजन > यात्रा

गोमती नदी के किनारे श्रीमनकामेश्वर मंदिर लखनऊ

गोमती नदी के किनारे श्रीमनकामेश्वर मंदिर लखनऊ

राजधानी लखनऊ में गोमती नदी के तट पर बाये किनारे पर भगवान शिव जी का एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है। श्री मनकामेश्वर मंदिर लखनऊ के सबसे महत्वपूर्ण स्थलों में से एक है। मान्यता है की यह मंदिर एक हजार साल से भी ज्यादा पुराना है। हर सोमवार के दिन मंदिर में हमेसा ही भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है। सावन के माह में और महाशिवरात्रि के दिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु महादेव के दर्शन के लिए आते हैं।

यह मंदिर त्रेतायुग में भगवान राम के जन्म से पहले से मौजूद था। माना जाता है लखनपुर के राजा लक्ष्मण जब माता सीता को वन में छोड़ने के बाद वापस लौट रहे थे तो उनका मन अनेकों प्रकार के प्रश्नों से अशांत और व्याकुल हो उठा था। वापसी में उन्हें जब शिवलिंग देखा तो वे शिवलिंग के सामने बैठकर भगवान शिव का ध्यान करने लगे और माता सीता के सकुशल अयोध्या वापस लौटने की मनोकामना मांगने लगे। बाद में यहां पर मंदिर का निर्माण किया गया था।

शिवलिंग के ऊपर एक चांदी की छात्र लगा है। मंदिर के फर्श पर चांदी के सिक्के जड़े हैं। मंदिर के शीर्ष पर स्थित 23 स्वर्ण के कलश इसकी भव्यता और सुन्दरता को बढ़ाते हैं ।

वर्तमान में मंदिर का भव्य निर्माण सेठ पूरन शाह द्वारा किया गया है। मंदिर के शीर्ष पर सुशोभित 23 स्वर्ण कलश इसकी भव्यता को बढ़ाते हैं। 

मंदिर में भगवान शिव के दर्शन के लिए दूर-दूर के क्षेत्रों से भी श्रद्धालु यहां आते हैं। मनकामेश्वर नाम से ही पता चलता है कि यहां मांगी गई मनोकामना पूरी होती।