होम > मनोरंजन > यात्रा

वाराणसी में स्थित भारत कला भवन

वाराणसी में स्थित भारत कला भवन

भारत कला भवन, उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रांगण में स्थित एक कला संग्रहालय है। भारत में प्रचलित लगभग समस्त प्रकार की शैलि चित्रों एवं मूर्तियां का विशाल संग्रह इस संग्रहालय में है। भारतीय चित्रकला के विषय में यदि कोई भी विद्वान या विद्यार्थी, शोधकर्ता या गहन अध्ययन करना चाहे तो वाराणसी में स्थित भारत कला भवन के चित्रों के संग्रह का अवलोकन करना पड़ेगा। भारत कला भवन की स्थापना सन् 1920 में हुई थी। कला भवन की स्थापना विख्यात कला मर्मज्ञ तथा कलाविद स्व. राय कृष्णदास ने की थी। 

संग्रहालय का चित्र संग्रह अपना आप में एक विशिष्ट स्थान रखता है। भारत कला के विभिन्न चित्रों, कृतियों, लघु चित्रों, और मूर्तियां के संयोजन में तो उनकी अभिरुचि ही भारत कला भवन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट रखता है। अतीत की वस्तुओं को संभलकर रखना अपने आप में एक चुनौतीपूर्ण कार्य होता है।
भारत कला भवन की गैलरी में भारतीय चित्रों के अतिरिक्त कुछ महत्वपूर्ण चित्रों को भी सजाया गया है। यह पर मौर्य काल से लेकर आधुनिक भारत तक की मूर्तियां एवं चित्रों की रखा गया है। इनमें 1591 ई. की बिलावत रागिनी, 18वीं शती की मेघ राग, 1575 ई. की माखन चोरी, 16वीं शती की चौरपंचशिका, विल्हण की चम्पावती, 1590 ई की मूसा का पलायन प्रेम प्रसंग, 15वीं शती का कल्प सूत्र देवशान पाडा, 20वीं शती के कपिलवस्तु में बुद्ध का आगमन, 19वीं शती की अभिसारिका नायिका, 1770 ई. की गीत गोविंद दृश्य तथा 1755 ई. की गोवर्धन धारण आदि चित्र शामिल हैं। 

भारत कला म्यूजियम में महामना मालवीय जी के जीवन से सम्बंधित सारी चीजें रखी गयी है। आप मालवीय जी को प्राप्त भारत रत्न जैसे प्रतिष्ठित सम्मान को भी देख सकते है। 

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी रेलवे वाराणसी रेलवे स्टेशन है। नजदीकी नजदीकी हवाई अड्डा लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डा है। 
आप सड़क मार्ग से भी बनारस पहुंच सकते है।