होम > मनोरंजन > यात्रा

दुर्लभ वनस्पतियों और विभिन्न जानवरों का आवास है यह जंगल

दुर्लभ वनस्पतियों और विभिन्न जानवरों का आवास है यह जंगल

नोकरेक नेशनल पार्क के शहर से लगभग 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नोकरेक नेशनल पार्क का नाम गारो जिले की सबसे ऊंची चोटी नोकरेक पर रखा गया है। नोकरेक नेशनल पार्क 47.48 वर्ग किमी के क्षत्रे में फैले हुआ है। तुरा गारो हिल्स का सबसे बड़ा शहर है, इसे मेघालय की दूसरी राजधानी भी माना जाता है। यह पूर्व से पश्चिम दिशा में सीजू से तूरा तक फैला हुआ है। 

मेघालय के वेस्ट गारो हिल्स जिले में स्थित ये पार्क गेरो की पहाड़ियों के बीच में बसा हुआ है। सन् 1986 में इसे नेशनल पार्क का दर्जा मिला और साल 2009 में इसे यूनेस्को की धरोधर सूची में शामिल किया गया। तूरा रेंज इस पहाड़ की प्रमुख आकर्षणों में से एक है। 

नोकरेक नेशनल पार्क में आएं तो यहां की कुछ लोकप्रिय जगहों की बिल्कुल भी मिस न करें। नोकरेक चोटी और रोंगबांग वॉटरफाल्स देखने वाली काफी अच्छी जगहें हैं। नोकरेक चोटी तक देरिबो असांग्रे तूरा रोड से पहुंच सकते हैं। वैसे चोटी पर पहुंचने के लिए देरिबो गांव से साढ़े तीन किमी बेहद कठिन रास्ता है। ऊपर बढ़ने पर ऊंचाई पर स्थित पार्क की खूबसूरती बढ़ती जाती हैं, और पेड़-पौधों का जंगल और घना होता जाता है। जिसमें कई प्रकार के दुर्लभ वनस्पतियों और जानवरों को देखा जा सकता है। नेपाक लेक और सीजू केव को देखने को मौका बिल्कुल न भूले।

नोकरेक नेशनल पार्क के घने जंगलों में दुलर्भ प्रकार के ऑर्किड की कई प्रजातियां पाई जाती है। कई बेशकीमती फल फूल और जड़ी बूटियों की शरणस्थली है नोकरेक नेशनल पार्क। इन मेघालय पूर्वोत्तर भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है, जिसको घूमने के लिए देश-विदेश से लोग आते हैं। मेघालय में कई ऐसे प्राकृतिक खूबसूरत पर्यटक स्थल हैं, जो आपका मन मोह लेंगे। इस राज्यों के नजारे हरी-भरी पहाड़ियों से सजे हैं, जो कि बादल के दिनों में स्वर्ग जैसी दिखती है।  

मेघालय का अपना कोई एयरपोर्ट नही हैं। इसलिए गुवाहाटी हवाई अड्डे से आप वहा से यहां के स्थानीय साधनों के माध्यम से आप मेघालय पहुंच सकते हैं। मेघालय का सबसे नजदीकी रलवे स्टेशन गुवाहाटी रेलवे स्टेशन है, आप यहां के स्थानीय साधनों के माध्यम से मेघालय पहुंच जाएंगे।

मेघालय सडक मार्ग के माध्यम से सभी प्रमुख शहरो से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। यदि आप बस या अपने पर्सनल साधन से मेघालय जाने की योजना बनाई है, तो आप आसानी से मेघालय पहुंच जाएंगे। राज्य में सड़क नेटवर्क काफी अच्छा है। पूरे राज्य में सड़कों का जाल बिछा हुआ है।