होम > मनोरंजन > यात्रा

बिना नाम का रेलवे स्टेशन

बिना नाम का रेलवे स्टेशन

भारतीय रेल एशिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। भारतीय रेल को देश की लाइफलाइन भी कहा जाता हैं। भारत में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूर्व से लेकर पश्चिम तक भारतीय रेल प्रतिदिन यात्रियों को अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचाती है। ```````भारत में एक से बढ़ कर एक ऐसे रेलवे स्टेशन हैं। जो अपनी खूबसूरती के लिए फेमस हैं। आप किसी रेलवे स्टेशन पे उतरे तो पता चले कि रेलवे स्टेशन का कोई नाम ही नहीं है तो कैसा लगेगा।

पश्चिम बंगाल के बर्धमान जिले से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बांकुरा मैसग्राम रेल लाइन पर यह स्टेशन दो गाँवो के बीच में स्थित है। इस रेलवे स्टेशन का निर्माण 2008 में हुआ था रैनागढ़ गाँव व रैना गाँव के बीच में होने की वजह से ये विवाद के कारण इसका नाम हटा दिया गया है।

गाँव के लोगो का कहना था की स्टेशन की जमीन को रैना गाँव के लोगो ने दिया है इस लिए इसका नाम उनके गांव पर ही होना चाहिए। इस बात को लेकर दोनों गांव वालों के बीच विवाद शुरू हो गया। तो रेलवे बोर्ड ने इस स्टेशन का साइन बोर्ड ही हटवा दिया अब यहा आने वाले यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। की वे किस स्टेशन का टिकट ले।

नाम को लेकर ये विवाद कब खत्म होगा गांवों के लोग ही बता सकते हैं की स्टेशन का नाम क्या होगा।