होम > मनोरंजन

डिमेंशिया पर फिल्म 'Goldfish' का कान में होगा प्रीमियर

डिमेंशिया पर फिल्म 'Goldfish' का कान में होगा प्रीमियर

मुंबई। डिमेंशिया पर आधारित फिल्म गोल्डफिश में वरिष्ठ अभिनेत्री दीप्ति नवल, देव-डी स्टार कल्कि कोचलिन और रजित कपूर 21 और 22 मई को फ्रेंच रिवेरा शहर में 75वें कान फिल्म समारोह में प्रीमियर लिए तैयार है।


फिल्म दीप्ति और कल्कि के बीच का पहला अंतर्राष्ट्रीय सहयोग है, जिसका सेट लंदन में है।


इस अवसर पर बात करते हुए, दीप्ति नवल ने एक बयान में अपने जीवन का एक गहरा व्यक्तिगत किस्सा साझा करते हुए कहा, एक अभिनेत्री के तौर पर आप ऐसी फिल्मों का इंतजार करते हैं, जो अंदर से कुछ बदल दें। मेरे लिए गोल्डफिश में ऐसा ही एक रोल है। मुझे फिल्म से जुड़ाव मेहसूस हुआ जैसे ही मैंने फिल्म की पहली तीन लाइनें सुनी। कभी-कभी मेरी अंतर आत्मा मुझसे कहती है, ये वो है जो मेरे लिए बना है, जिसका मुझे हमेशा से इंतजार था। हो सकता है मुझे ऐसा इसलिए लगता होगा क्योंकि मैंने अपनी मां को अल्जाइमर और डिमेंशिया से गुजरते हुए देखा है।


फिल्म का निर्देशन सिनेमैटोग्राफर और थिएटर निर्देशक पुशन कृपलानी ने किया है, जिसमें अमित सक्सेना की स्प्लेंडिड फिल्म्स (यूएसए) फिल्म का निर्माण कर रही है और पूजा चौहान कार्यकारी निर्माता के रूप में काम कर रही हैं।


कल्कि ने कोविड के बाद की दुनिया और उसमें होने वाली भावनात्मक उथल-पुथल के बारे में बात करते हुए कहा कि, पोस्ट कोविड के बाद की दुनिया में जहां बहुत सारे लोग अपने प्रियजनों के साथ अपने घरों में जाने को मजबूर थे, वहां बहुत शांति थी, फिर भी यह भावनात्मक पीड़ा थी, जो कुछ भी थी लेकिन फिर भी।


उन्होंने आगे कहा, यह फिल्म कुछ अलग चीजों को सामने लाती है और दूसरी बात यह थी कि कैसे फिल्म के कलाकारों में दुनिया भर के भारतीय शामिल थे और इन सभी अभिनेताओं के अपने लहजे थे जो कुछ ऐसा है, जो हमने कभी किसी फिल्म में नहीं देखा।


अपनी फिल्म के बारे में बताते हुए, निर्देशक पुशन कृपलानी ने कहा, गोल्डफिश दो महिलाओं के माध्यम से पहचान के विचारों की पड़ताल करती है। यह तय नहीं होता है कि वह कौन है, क्योंकि वह दो संस्कृतियों के बीच रहती है, न तो पूरी तरह से अपनी और दूसरी की है। अपनी बीमारी की वजह से, एक ऐसी जगह फंस गई है जहां से वह निकलना चहा रही है। यह कर्तव्य, प्रेम और दर्दनाक इतिहास के विचारों को बताना चाहता है।