होम > मनोरंजन > कवितायें और कहानियाँ

अंतराल

अंतराल

अंतराल-
दो दिलों का,
अंतराल-
दो पीढ़ियों का,
अंतराल-
दो लोगों की सोच का,
अंतराल-
दो जन्मों का,
अंतराल-
दो सदियों का,
अंतराल-
दो सुख-दुख के बीच का,
अंतराल-
दो दिन और रात का,
अंतराल-
दो विपरीत काल का,
अंतराल-
सामाजिक बंधनों के जाल का,
कभी नहीं भर सकता।
--(भावना मौर्य "तरंगिणी")--
********
नोट: मेरी पिछली रचना आप इस लिंक के माध्यम से पढ़ सकते हैं-  
ईश्वर का वरदान बेटियाँ: https://medhajnews.in/news/entertainment/poem-and-stories/daughters-are-gift-of-the-god