होम > मनोरंजन > कवितायें और कहानियाँ

उड़ान- हौंसलें की

उड़ान- हौंसलें की

जो मुश्किलों के समय,
हौंसला खोता नहीं हैं;
वो जीवन में कभी,
पीछे होता नहीं हैं।
कुछ पल तो परीक्षा के,
सभी के जीवन में आते हैं;
पर जो उन क्षणों में भी,
अपने होश खोता नहीं हैं।
वो जीवन में कभी,
भी दुखों पर रोता नहीं हैं।
याद रखें कि ये जीवन है,
कोई समझौता नहीं है;
जो बीत जाता है वो कभी,
पीछे होता नहीं है।
सुख और दुःख तो,
सच्चाई है इस शाश्वत जीवन की;
और मृत्यु है अटल,
कोई मुखौटा नहीं है।
जो स्वीकारता है इस सच को,
दिल की गहराइयों से;
उसे ज़िन्दगी से फिर कभी,
कोई गिला-शिकवा होता नहीं हैं।
अपनी कमज़ोरियों पर,
जो पा लेते हैं विजय;
फिर भाग्य बदलने से उन्हें,
कोई रोक सकता नहीं हैं।
कठिन परिश्रम और हौसलें से ही,
तो भाग्य परिवर्तन संभव है;
वरना सफलता पाने का कोई,
और विकल्प होता नहीं है
खुद को आगे बढ़ाने की तमन्ना है, न कि, किसी को गिराने का इरादा है; लोग माँगते रहें मेरे हारने की दुआयें, और हम जीत कर ही दिखाएँगे......ये खुद से किया मेरा वादा है....।
----(Copyright @भावना मौर्य "तरंगिणी")---

नोट: मेरी पिछली रचना आप इस लिंक के माध्यम से पढ़ सकते हैं- 
ज़िन्दगी कैसी लगती है - https://medhajnews.in/news/entertainment/poem-and-stories/how-does-life-feel