होम > मनोरंजन > कवितायें और कहानियाँ

लो बीत गया ये साल भी...

लो बीत गया ये साल भी...

लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ खट्टी-मीठी यादों संग,
कुछ नयी-नवेली रीत लिए,
कुछ बीती पुरानी बातों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ पूरे-अधूरे वादों संग,
कुछ दर्द भरे लम्हों से सिक्त, 
तो कुछ खुशनुमा एहसासों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ चिर-परिचित आवाज़ों संग,
कुछ तन्हाइयों में लिपटे रहे,
तो कुछ झूमें थे खूब साजों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ जुड़ते मन के भावों संग,
किसी ने मन का कह दिया सब,
तो कुछ विदा हुए सब राज़ों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ भरे हुए अख़बारों संग,
कुछ गिरे तो फिर वो उठे नहीं,
कुछ खड़े हुए थोड़ आधारों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ नीर बहती रातों संग,
कभी नैनों के जुगनू चमक उठे,
कुछ उजाले सुनहरे ख्वाबों संग;
लो बीत गया ये साल भी...
लो बीत गया ये साल भी,
कुछ पतझड़, कुछ बहारों संग;
जिस शक्ति से हैं अस्तित्व हमारा
उसी अद्भुत सृष्टि के उपकारों संग;
लो बीत गया ये साल भी...!!

★★★★★  

----(Copyright@भावना मौर्य "तरंगिणी")---

देखते-देखते ये साल भी निकल गया और मात्र कुछ घंटों बाद हम नव वर्ष-2023 में पदार्पण कर जायेंगे....नये साल का हर दिन आपके लिए सफलता, खुशी और समृद्धि से भरा हो.....आपको नये साल की हार्दिक शुभकामनायें :-))

मेरी पिछली रचना आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं:- 
तुमसे इश्क़ करके...: https://medhajnews.in/news/entertainment/poem-and-stories/by-falling-in-love-with-you