होम > राज्य > पंजाब

किसान आंदोलन को लेकर पंजाब बीजेपी में खींचतान तेज, पूर्व कैबिनेट मंत्री ने प्रदेश अध्यक्ष से मांगा इस्तीफा

कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के प्रदर्शन को लेकर पंजाब बीजेपी में आपसी खींचतान तेज हो गई है। आंदोलन को लेकर प्रदेश बीजेपी को घेरने वाले बीजेपी नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री अनिल जोशी पार्टी की ओर से मिले कारण बताओ नोटिस के बाद और बिफर गए हैं। उन्होंने नोटिस मिलने पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष अश्वनी शर्मा से इस्तीफे की मांग की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व कैबिनेट मंत्री का कहना है कि किसान आंदोलन को लेकर प्रदेश नेतृत्व ने केंद्र को सही फीडबैक नहीं दिया। इस वजह से यहां हालात खराब हुए। लगातार किसान आंदोलन को लेकर बयानबाजी कर रहे अनिल जोशी को मंगलवार को प्रदेश अध्यक्ष ने कारण बताओ नोटिस भेजा था। इस पर जोशी ने कहा कि वह अपने पुराने बयानों पर कायम हैं। केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर चल रहे आंदोलन को खत्म करने की कोशिश की जानी चाहिए, लेकिन यह सब करने के बजाय प्रदेश बीजेपी के पदाधिकारी अपनी ही पार्टी के नेताओं के साथ राजनीति कर रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष के कारण पार्टी को पंजाब में काफी नुकसान हो चुका है। प्रदेशभर में कार्यकर्ताओं के बीच बिखराव हो रहा है। ऐसे में नैतिकता के आधार पर प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा को इस्तीफा देना चाहिए। खबरों के अनुसार, अनिल जोशी का कहना है कि पंजाब में किसान आंदोलन को उग्र होने से रोका जा सकता था। लेकिन केंद्र को सही फीडबैक नहीं मिल पाने के कारण हालात हाथ से निकल गए।