होम > राज्य > हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश सरकार की उपलब्धि, 15,256 फीट ऊंचाई पर बसे गांव को मिलता है पीने का पानी

हिमाचल प्रदेश सरकार की उपलब्धि, 15,256 फीट ऊंचाई पर बसे गांव को मिलता है पीने का पानी

शिमला| हिमाचल प्रदेश सरकार ने कोविड-19 महामारी के बावजूद जल जीवन मिशन के तहत लाहौल-स्पीति जिले में 15,256 फीट की ऊंचाई पर स्थित एक दूरदराज के गांव ताशीगंग को पीने योग्य पानी उपलब्ध कराने में कामयाबी हासिल की है। जल जीवन मिशन के तहत सरकार 'हर घर नल योजना' को जमीनी स्तर पर लागू कर रही है।


राज्य में लगभग 17 लाख घरों में नल का पानी उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें से 14.50 लाख घरों में पानी के कनेक्शन दिए जा चुके हैं।


जल जीवन मिशन के शुभारंभ के साथ, लगभग 18 महीने की छोटी अवधि में, लगभग 6.05 लाख पानी के कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। जल शक्ति विभाग का लक्ष्य 15 अगस्त, 2022 तक हर ग्रामीण घर में नल का पानी का कनेक्शन उपलब्ध कराना है और इसे प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।


एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि जल जीवन मिशन के तहत किए जाने वाले कार्यों के लिए 2,260 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं, जिसमें से 1,107 करोड़ रुपये जल शक्ति विभाग द्वारा खर्च किए गए हैं।


प्रदर्शन के आधार पर राज्य को 283 करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि मिली है।


कार्यक्रम के तहत 55 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन की दर से पानी उपलब्ध कराने का कार्य किया जा रहा है। 283 पेयजल योजनाओं के प्रोत्साहन एवं सुधार के लिए 1,120.24 करोड़ रुपये का योजनागत अनुमान तैयार किया गया है।


वर्ष 2021-22 में राज्य में विभिन्न योजनाओं के संवर्धन एवं सुधार के लिए 764 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। जल जीवन मिशन के तहत 888 करोड़ रुपये की 107 परियोजनाएं तैयार कर केंद्र सरकार को मंजूरी के लिए भेजी गई हैं।


जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत हिमाचल प्रदेश अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर रहा है।


मिशन के तहत देश के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र ताशीगंग गांव को जलापूर्ति से जोड़ा गया है।