होम > राज्य > पश्चिम बंगाल

ममता बनर्जी की टेंशन खत्म, चुनाव आयोग ने बंगाल में तारीखों की घोषणा की

ममता बनर्जी की टेंशन खत्म, चुनाव आयोग ने बंगाल में तारीखों की घोषणा की

नई दिल्ली | ममता बनर्जी को उनके ही घर में शिकस्त देने का कोई मौका भाजपा अपने हाथ से गवाना नहीं चाहती है। नंदी ग्राम से चुनाव हारने के बाद ममता बनर्जी मुख्या मंत्री तो बन गई लेकिन अभी उनकी अग्निपरीक्षा बाकी है। ममता 30 सितंबर को भवानीपुर सीट से उपचुनाव लड़ रहीं हैं। इस दौरान ममता को टककर देने के लिए बीजेपी ने पेशे से वकील प्रियंका टिबरेवाल को मैदान में उतारा है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की कानूनी सलाहकार प्रियंका टिबरेवाल ने अप्रैल-मई में बंगाल चुनाव लड़ा था, लेकिन तृणमूल कांग्रेस के अपने प्रतिद्वंद्वी से हार गई थीं। चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की मेगा जीत के बाद तीसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने वाली ममता बनर्जी को शीर्ष पद बरकरार रखने के लिए भवानीपुर उपचुनाव को किसी भी हालत में जीतने की जरूरत है।

गौरतलब है की टिबरेवाल पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हिंसा के मामलों की भी वकील हैं। भाजपा ने शुक्रवार को उपचुनाव के लिए तीन उम्मीदवारों की घोषणा की, जिसमें प्रियंका टिबरेवाल भवानीपुर से, मिलन घोष समसेरगंज से और सुजीत दास को जंगीपुर से मैदान में उतारा गया है।

पार्टी कार्यकतार्ओं का कहना है कि टिबरेवाल राज्य सरकार के अत्याचारों के पीड़ितों का बचाव करने से लेकर रानीगंज दंगा मामले और पुरुलिया हत्या मामले जैसे कई मामलों को संभाल रही हैं और हमेशा न्याय और स्वतंत्रता के लिए खड़ी रही है। टिबरेवाल ने भाजपा में भी कई महत्वपूर्ण भूमिकाएँ निभाई हैं और राज्य की पदाधिकारी रही हैं।

उन्होंने पश्चिम बंगाल में हाल ही में चुनाव के बाद की हिंसा की घटनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, अभिजीत सरकार की हत्या के लिए न्याय की मांग करने के लिए मामलों को कलकत्ता उच्च न्यायालय में लाया। टिबरेवाल सीबीआई जांच के लिए अदालती आदेश प्राप्त करने में सफल रही हैं और चुनाव बाद हिंसा के मामलों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन भी किया है।

पश्चिम बंगाल भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने दावा किया है कि बनर्जी को नंदीग्राम की तरह भवानीपुर में एक और हार का सामना करना पड़ेगा। घोष ने कहा कि हम अपनी पूरी ताकत के साथ उपचुनाव लड़ने जा रहे हैं और तीनों विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करेंगे। ममता दीदी को भवानीपुर में एक और हार का सामना करना पड़ेगा। चुनावी नतीजों के लिए मतगणना 3 अक्टूबर को होगी।

 ये भी पढ़ें

ममता बनर्जी की टेंशन खत्म, चुनाव आयोग ने बंगाल में तारीखों की घोषणा की