होम > भारत

आपत्तिजनक ट्वीट मामले में दिल्ली हाईकोर्ट का कांग्रेस नेताओं को नोटिस

आपत्तिजनक ट्वीट मामले में दिल्ली हाईकोर्ट का कांग्रेस नेताओं को नोटिस

स्मृति ईरानी को दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से बड़ी जीत हांसिल हुई हैं। कांग्रेस नेताओं की तरफ से स्मृति ईरानी की बेटी पर अवैध बार चलाने के गंभीर आरोप लगाए जाने को लेकर कांग्रेस नेताओं को दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से नोटिस जारी किया गया है।  ईरानी ने कोर्ट में कांग्रेस नेताओं के खिलाफ मानहानि का  केस दायर किया हुआ था , जिसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता जयराम रमेश, पवन खेड़ा और नेट्टा डिसूजा को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। 

दिल्ली हाईकोर्ट ने न केवल नोटिस जारी किया बल्कि 24 घंटे में उस आपत्तिजनक ट्वीट को हटाने के भी निर्देश दिए गए हैं,  कोर्ट ने ये भी कहा कि अगर कांग्रेस नेता खुद ट्वीट नहीं हटाते तो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म उस ट्वीट को तुरंत हटाएऔर ऐसे नेताओं की सोशल आईडी को भी लॉक करें।

बेटी पर गंभीर आरोप के मामले में स्मृति ईरानी ने जयराम रमेश और पवन खेड़ा के खिलाफ 2 करोड़ की मानहानि का मुकदमा दायर किया है। 

स्मृति ईरानी का कहना है कि उनकी बेटी पर झूठे आरोप लगाए गए हैं, वो अभी पढ़ाई कर रही है कोई बार नहीं चलाती। कांग्रेस नेताओं के इन निराधार बयानों के बाद उन्होंने कोर्ट का रुख किया था। 

हाईकोर्ट द्वारा नोटिस जारी के बाद कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि वो अपने साथी नेताओं के साथ कोर्ट के सामने सारे तथ्य रखेंगे और केंद्रीय मंत्री को इसका करारा जवाब देंगे। 

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि हम अदालत के समक्ष तथ्यों को रखने के लिए उत्सुक हैं, स्मृति ईरानी जिस तरह से मामले को दबाने का प्रयास कर रही हैं उसे हम चुनौती देंगे और विफल करेंगे।

कांग्रेस नेताओं ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की बेटी पर गोवा में अवैध बार चलाने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्मृति ईरानी को मंत्रिमंडल से हटाने की मांग की थी, कांग्रेस नेताओं के पास पुख़्ता सबूत भी मौजूद हैं, जिसको लेकर लेकर कांग्रेस की तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की गई।