होम > भारत

नहीं रहे JDU के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव, बेटी ने किया ट्वीट -पापा नहीं रहे

नहीं रहे JDU के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव, बेटी ने किया ट्वीट -पापा नहीं रहे

कल गुरुवार की शाम JDU के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का दिल्ली के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उनकी  तबियत काफी समय से खराब चल रही थी, जिस कारण उन्हें दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन, इसी बीच  रात करीब 9 बजे उनका निधन हो गया। जिसकी खबर खुद उनकी बेटी शुभाषिनी यादव ने सोशल मीडिया में दी  उनकी बेटी ने अपने ट्विटर अकाउंट में  ट्वीट करते हुए लिखा, पापा नहीं रहे''

आपको बता दे, शरद यादव की उम्र 75 वर्ष के करीब थी वो लबे समय से बीमार चल रहे थे उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लालू, अमित शाह, राहुल गांधी, मनोहर लाल खट्‌टर, बिहार के डिप्टी CM तेजस्वी यादव, नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा समेत कई नेताओं ने दुख जताया है।

शरद यादव काफी जाने माने नेता माने जाते थे, वे उन नेताओं में से हैं, जिन्हे लालू प्रसाद और नीतीश कुमार दोनों के साथ देखा जा ससक्त था। नीतीश कुमार से राजनीतिक रिश्ते खराब होने के बाद शरद यादव अलग-थलग पड़ गए। गंभीर रूप से बीमार होने की वजह से उनकी राजनीतिक गतिविधियां भी काफी कम हो गई थीं।

इसी बीच उनके घर में आकर अमित शाह ने उनके परिवार से मुलाकात की, राहुल गांधी भी शरद यादव को श्रद्धांजलि देने के लिए पंजाब से दिल्ली पहुंच गए हैं , वो भी उनके परिवार से मिल चुके हैं। इसी बीच मनोहर लाल खट्‌टर ने भी शरद यादव को श्रद्धांजलि दी हैं, आपको बता दे शरद यादव का पार्थिव शरीर दिल्ली के छतरपुर स्थित उनके निवास स्थान पर रखा गया है। एमपी के बाबई तहसील के आंखमऊ गांव में शनिवार को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

JDU के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का पार्थिव शरीर शुक्रवार को अंतिम दर्शन के लिए दिल्ली के छतरपुर में उनके आवास पर रखा गया है। गृहमंत्री अमित शाह, राहुल गांधी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

शरद का गुरुवार की रात 75 साल की उम्र में निधन हो गया था। उन्होंने दिल्ली के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली। शरद यादव को लंबे समय से  किडनी से जुड़ी परेशानियां थी, उनको डायलिसिस दिया जा रहा था। उन्हें गुरुवार को अचेत अवस्था में फोर्टिस में आपात स्थिति में अस्पताल लाया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शरद यादव जी के निधन से बहुत दुख हुआ। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अपने लंबे सार्वजनिक जीवन में उन्होंने खुद को सांसद और मंत्री के रूप में प्रतिष्ठित किया। वे डॉ. लोहिया के आदर्शों से काफी प्रभावित थे। मैं हमेशा हमारी बातचीत को संजो कर रखूंगा। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदनाएं। शांति।
msn