होम > भारत

10 ट्रिलियन डॉलर निवेश की आवश्यकता होगी भारत को 2070 तक शून्य उत्सर्जन वाला देश बनने के लिए

10 ट्रिलियन डॉलर निवेश की आवश्यकता होगी भारत को 2070 तक शून्य उत्सर्जन वाला देश बनने के लिए

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 2021 में 26 वां संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में 2070 तक भारत के शून्य उत्सर्जन लक्ष्य को प्राप्त करने की घोषणा की थी। जीई-ईवाई द्वारा जारी एक संयुक्त श्वेत पत्र में कहा गया, "भारत को 2070 तक अपने शुद्ध-शून्य लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 10 ट्रिलियन अमरीकी डालर से अधिक के निवेश की आवश्यकता हो सकती है।"

इसने यह भी कहा कि भारत अभी  निकट भविष्य में कोयला बिजली पर निर्भर रहने वाला है , अतः देश को कार्बन उत्सर्जन को और कम करने के लिए स्वच्छ कोयला प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित करने और प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है।

रिपोर्ट ने आगे नीतिगत पहलों की सिफारिश करते हुए कहा की लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, भारत को घरेलू उत्पादन को प्रोत्साहित करने वाले उपायों के माध्यम से ऊर्जा क्षेत्र में आयात-निर्भरता को दूर करना चाहिए जैसे कि उत्पादन से जुड़े प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना। 

लक्ष्य को पूरा करने के लिए कोयला आधारित ऊर्जा के उपयोग के लिए कार्बन कैप्चर प्रौद्योगिकियों का लाभ उठाना, मांग-पक्ष प्रोत्साहनों और नीतियों के माध्यम से हरित हाइड्रोजन को बढ़ावा देने के अलावा लागत को कम करना भी आवश्यक है।

''सबसे महत्वपूर्ण बात, स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को अपनाने के लिए कार्बन बाजार और प्रोत्साहन बनाना। भारत को वित्तपोषण की सुविधा के लिए हरित बांड बाजार को गहरा करने में मदद करने के लिए कई नीतिगत उपाय करने की आवश्यकता है, '' यह कहा।