होम > भारत

गुजरात से लेकर देश को संभालने तक का सफर Birthday Special Narendra Modi

गुजरात  से लेकर देश को संभालने तक का सफर  Birthday Special Narendra Modi

आज भारत देश के 14वे  प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी का जन्मदिन हैं, भारत में ही नहीं विश्व में भी नरेन्द्र मोदी  एक जाना माना नाम बना चुके हैं उनकी गिनती विश्व के शीर्ष नेताओ में की जाती हैं सर्वे के मुताबिक, 75 फीसदी की अप्रूवल रेटिंग के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक बार फिर विश्व  रेटिंग के मामले में शीर्ष पर हैं। 2014 में बीजेपी को बहुमत से जीत दिलाने में  नरेन्द्र मोदी को श्रेय दिया जाता है। 

महान व्यक्तित्व की शुरुवात 

नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितम्बर  1950 में एक गुजराती  मध्यम-वर्गीय परिवार में हुआ, बचपन में अपने पिता के साथ वो चाय बेचने में  मदद करते थे जिसके बाद उन्होंने खुद का चाय स्टॉल भी खोला, नरेन्द्र मोदी जब 8 साल के हुए तो उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS ) में खुद को जोड़ लिया। उनके स्कूल मास्टर के अनुसार वो एक औसत दर्ज़े का छात्र थे लेकिन वाद-विवाद और नाटक प्रतियोगिताओं में वो बेहद रुचि रखते थे। 

सन 1967  में इन्होने अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा पूरी की जिसके बाद कुछ पारिवारिक तनाव के कारण इन्होने अपना घर छोड़ दिया। और भारत भर्मण पर निकल पड़े।  

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बचपन से घूमने का बड़ा  शोक था, जिसके चलते इन्होने अपनी लम्बी यात्रा शुरू कर दी और उत्तर-पूर्वी, भारत यात्रा के दौरान नरेन्द्र  मोदी ने दो साल बिताए जिसमे इन्होने अनेकों धार्मिक स्थानों का दौरा किया। सन 1969 या 1970 के करीबन ये  गुजरात वापस लौटे और फिर अहमदाबाद चले गए।


साल 1970 में 20 साल की उम्र में, वह RSS  से इतना प्रभावित हुए कि पूरी तरह से इसके प्रचारक बन गये और 1971 में नरेन्द्र  मोदी पूर्ण  रूप से (RSS)  में शामिल हो गये और (RSS) कार्यकर्ता के रूप से में वो कार्यभार संभाल रहे थे , तभी 1975 में देश भर में आपातकाल की स्थिति के दौरान उन्हें कुछ समय के लिए अज्ञातवास में रहना पड़ा जिसके बाद 1985 में वे भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गए।  

बीजेपी पार्टी में जुड़ने के बाद  2001 में उन्होंने अपने पद अनुसार कई पदों पर कार्य किया, जिसके बाद वो धीरे - धीरे सीखते, जानते, परखते, हुए BJP में सचिव के पद पर उभर कर आये। लेकिन उनकी मंजिल अभी शरू ही हुई थी। और भविष्य उनके लिए कुछ बड़ी जिम्मेदारियां लिखी हुई थी। 

सन 2001 में तत्कालीन मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल की सेहत बिगड़ने से भाजपा चुनाव में कई सीट हार रही थी।  जिसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्यमंत्री के रूप में मोदी को नए उम्मीदवार के रूप में रखते हैं। लेकिन भाजपा के नेता लालकृष्ण आडवाणी, नरेन्द्र मोदी के सरकार चलाने के अनुभव की कमी के कारण चिंतित थे। 

जिसके बाद उन्हें गुजरात के  उप मुख्यमंत्री बनने का प्रस्ताव दिया गया लेकिन नरेन्द्र मोदी ने उप मुख्यमंत्री बनने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया और आडवाणी व अटल बिहारी वाजपेयी से बोले कि यदि मुझे गुजरात की जिम्मेदारी देनी है तो पूरी दें अन्यथा न दें।  जिसके बाद 3 अक्टूबर 2001 को नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने। अपनी बेहतरीन सोच, दमदार काम और जनता के प्यार के बदौलत नरेन्द्र  मोदी को गुजरात का लगातार 4 बार, 2001 से 2014 तक मुख्यमन्त्री के रूप में चुना गया । यहाँ तक की नरेन्द्र मोदी को गुजरात में विकास पुरुष के नाम से भी जाना जाता  हैं और वो देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक भी हैं।  टाइम पत्रिका ने नरेंद्र मोदी को पर्सन ऑफ़ द ईयर 2013 के 42 उम्मीदवारों की सूची में शामिल किया था।  लालकृष्ण आडवाणी की बातो को नरेन्द्र मोदी ने अपने काम के दम पर जवाब दिया। 

नरेंद्र मोदी ने जनता के लिए  पंचामृत योजना, सुजलाम् सुफलाम्,  कृषि महोत्सव,  चिरंजीवी योजना, मातृ-वन्दना,  बेटी बचाओ,  ज्योतिग्राम योजना, कर्मयोगी अभियान, कन्या कलावाणी योजना, बालभोग योजना,  आदि और भी कई योजनाए चालयी जिससे उनकी छवि में चार चाँद लग गए। 

जनता के लिए समर्पण की भावना को देखकर  पार्टी के लोग भी नरेन्द्र मोदी को चाहने लगे जिसके बाद  26 मई 2014 को नरेन्द्र मोदी को भारत के 14वें  प्रधान मंत्री के रूप में चुना गया नरेन्द्र मोदी ने भारत के प्रधान मंत्री के रूप में शपथ ली।  वह ब्रिटिश साम्राज्य से भारत की आजादी के बाद पैदा हुए पहले प्रधान मंत्री बने। जिसके बाद से भारत हर कदम पर विश्व के सामने उभर रहा हैं   नरेंद्र मोदी की बदौलत भारत आज विश्व भर में एक अलग पहचान बना चूका हैं। 

भारत हर क्षेत्र में भेतरीन कार्य कर रह हैं  और नरेंद्र  मोदी का विज़न अखंड भारत  का सपना आज स्पष्ट रूप से सच हो रहा हैं। देश के तरक्की के लिए जैसा प्रधानमंत्री चाहिए नरेंद्र मोदी में सारे के सारे गुण भरे पड़े हैं, आज भारत की गिनती विकासशील देशो में होती हैं , इसका एक मुख्य कारण हमारे प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी भी हैं  उनको जन्मदिन की हार्दिक बधाई।