होम > भारत

सीईए और ऊर्जा मंत्रालय ने एक कार्यशाला का आयोजन किया

सीईए और ऊर्जा मंत्रालय ने एक कार्यशाला का आयोजन किया

केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण और ऊर्जा मंत्रालय द्वारा संसाधन पर्याप्तता- आवश्यकता और आगे की राह पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यशाला का उद्देश्य विभिन्न हितधारकों को बिजली क्षेत्र में संसाधन पर्याप्तता की अवधारणा से परिचित कराना था। कार्यशाला में उपभोक्ताओं को सस्ती दर पर 24X7 विश्वसनीय और सुरक्षित बिजली आपूर्ति के महत्व पर जोर दिया गया।

 सीईए ने विभिन्न वितरण उपयोगिताओं के लिए संसाधन पर्याप्तता योजना को पूरा करने के लिए मसौदा दिशानिर्देश भी लाए हैं। संसाधन पर्याप्तता योजनाओं की आवश्यकता और संसाधन पर्याप्तता योजनाओं को क्रियान्वित करने के लिए प्रस्तावित दिशा-निर्देशों सहित मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया।

यह योजना उत्पादन क्षमता के इष्टतम उपयोग, बिजली की मांग से जुड़ी विविधता का उपयोग करने और विभिन्न राज्यों के बीच उत्पादन परिसंपत्तियों को साझा करने के लिए राज्य वितरण उपयोगिताओं के लिए फायदेमंद होगी।

यह योजना राज्यों को इष्टतम क्षमता नियोजन और बिजली की खरीद में भी मदद करेगी जिससे उपभोक्ताओं को आपूर्ति की लागत कम हो जाएगी। मध्य प्रदेश, असम, ओडिशा, तमिलनाडु और पंजाब नाम के पांच राज्यों के लिए पायलट अध्ययन किया जा रहा है।