होम > भारत

सीडीएस जनरल रावत को मिला पद्मपुरस्कार, मरणोपरांत हुई घोषणा

सीडीएस जनरल रावत को मिला पद्मपुरस्कार, मरणोपरांत हुई घोषणा

सरकार ने मंगलवार को पद्म पुरस्कारों की घोषणा की है, जिसमें भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) दिवंगत जनरल बिपिन रावत को 73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर मरणोपरांत दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मविभूषण से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है।

8 दिसंबर, 2021 को तमिलनाडु में एक हेलिकॉप्टर दुर्घटना में जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 12 सशस्त्र कर्मियों की मौत हो गई थी।

पद्मविभूषण से सम्मानित अन्य लोगों में प्रभा अत्रे (कला), कल्याण सिंह (सार्वजनिक मामले, मरणोपरांत) और राध्याश्याम खेमका (साहित्य और शिक्षा, मरणोपरांत) शामिल हैं।


इस साल 14 जनवरी को सैन्य हेलिकॉप्टर दुर्घटना की जांच के लिए गठित कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने दुर्घटना के कारण के रूप में यांत्रिक विफलता, तोड़फोड़ या लापरवाही को खारिज कर दिया।


ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी रिपोर्ट के प्रारंभिक निष्कर्षो को साझा करते हुए भारतीय वायुसेना ने कहा कि तमिलनाडु में कुन्नूर के पास घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव के कारण बादलों में प्रवेश के कारण हेलिकॉप्टर दुर्घटना हुई थी।


जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ के अलावा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का विश्लेषण किया।


जनरल रावत नीलगिरि हिल्स के वेलिंगटन में डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज के स्टाफ कोर्स के संकाय और छात्र अधिकारियों को संबोधित करने के लिए गए थे।