होम > भारत

ऐतिहासिक: देश 14 अक्टूबर तक 100 करोड़ वैक्सीन की खुराक का लक्ष्य करेगा हासिल

ऐतिहासिक: देश 14 अक्टूबर तक 100 करोड़ वैक्सीन की खुराक का लक्ष्य करेगा हासिल

नई दिल्ली | विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में अब भारत एक और मील का पत्थर गाड़ने जा रहा है। भारत कल यानि की 14 अक्टूबर तक कोरोना वैक्सीन की 100 करोड़ खुराक का लक्ष्य हासिल करने के लिए पूरी तरह तैयार है। सरकार ने इसे लेकर एक 'मेगा इवेंट' यानी बड़े आयोजन की तैयारी शुरू कर दी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूत्र ने बताया कि 14 अक्टूबर को वैक्सीन की 100 करोड़ खुराक का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा और इस उपलब्धि को 'विजयादशमी' त्योहार की तरह ही कोविड रूपी 'दुष्ट आत्मा' पर भारत की जीत के रूप में मनाया जाएगा, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

सूत्र ने कहा, "इस दिन को कोविड रूपी बुरी आत्मा पर भारत की जीत के रूप में मनाया जाएगा।" उन्होंने कहा कि सरकार इस दिन तक 100 करोड़ खुराक का लक्ष्य पूरा करने के लिए अपनी सीमाओं या क्षमताओं को आगे बढ़ा रही है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड पर प्रतीकात्मक रूप से जीत दर्ज करने के लिए इसे विजयादशमी को भव्य तरीके से मनाने की योजना बनाई है। सभी संबंधित विभागों को इसके बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए, मीडिया के माध्यम से उपलब्धि का प्रचार-प्रसार करने के लिए अग्रिम रूप से तैयार रहने के निर्देश दिए गए हैं।

मेगा उत्सव में उन फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं, स्वास्थ्य कर्मचारी और कोविड योद्धाओं को याद भी किया जाएगा, जिनकी मौत 100 करोड़ खुराक के लक्ष्य को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए संक्रमण से हुई है। सूत्र ने कहा, "कोविड-19 के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान भारत में चलाया जा रहा है और यह जश्न मनाने का एक विशेष अवसर होगा, जब हम टीकों की 100 करोड़ खुराक का प्रबंध करेंगे।"

सूत्र ने आगे कहा, "इस बात की सबसे अधिक संभावना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को 100 करोड़ खुराक की उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने के बाद राष्ट्र को संबोधित कर सकते हैं।" उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कोविड उन योद्धाओं के परिवार के लिए भी घोषणा कर सकते हैं, जिनकी महामारी से लड़ते हुए और अन्य लोगों की जान बचाते हुए मौत हो गई थी।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के अंतर्गत अब तक वैक्सीन की 95.89 करोड़ खुराकें दी जा चुकी हैं। अब तक, भारत ने स्वास्थ्य कर्मियों को टीकों की 1,03,75,424 पहली खुराक और 90,36,583 दूसरी खुराक दी है। मंगलवार सुबह तक फ्रंटलाइन वर्करों को वैक्सीन की 1,83,59,259 पहली खुराक और 1,53,98,857 दूसरी खुराक मिल चुकी हैं।

18-44 वर्ष के आयु वर्ग में 38,68,20,261 लोगों को पहली खुराक दी गई है और 10,40,73,546 लोगों को दोनों खुराक दी गई हैं। 45-59 वर्ष आयु वर्ग में, पहली खुराक 16,61,56,424 को दी गई है और 8,38,76,362 को उनकी दूसरी खुराक भी मिल चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार सुबह तक साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गो को पहली खुराक के रूप में 10,48,69,202 टीके और दूसरी खुराक के रूप में 6,00,12,131 टीके लगाए गए हैं।

मंगलवार सुबह तक, भारत ने कोविड-19 वैक्सीन की 95.89 करोड़ से अधिक खुराक दी है, जिसमें पिछले 24 घंटों के दौरान 68.86 लाख टीका लगाए गए हैं। अब तक, छह राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने सभी 18 से अधिक आबादी को कम से कम पहली खुराक देने का काम पूरा कर लिया है, जिसमें लक्षद्वीप, चंडीगढ़, गोवा, हिमाचल प्रदेश, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और सिक्किम शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा साझा किए गए नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, कुल 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने कम से कम 80 प्रतिशत से अधिक वयस्क आबादी को पहली खुराक दी है। इस बीच, भारत में दैनिक तौर पर सामने आ रहे कोविड-19 मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है, जो अच्छा संकेत है।

भारत ने मंगलवार को पिछले 24 घंटों में 14,313 नए कोविड मामले दर्ज किए, जो 224 दिनों में सबसे कम दर्ज किए गए मामले हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इसी अवधि में कुल 181 मौतें भी हुई हैं, जिससे संक्रमण की वजह से मरने वालों की संख्या 4,50,963 हो गई है।

सक्रिय कोविड मामले वर्तमान में 2,14,900 है, जो 212 दिनों में सबसे कम है। वर्तमान में सक्रिय कोविड मामले देश के कुल पॉजिटिव मामलों का 0.63 प्रतिशत हैं। साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 1.48 प्रतिशत है और पिछले 109 दिनों से यह 3 प्रतिशत से कम बनी हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 43 दिनों से दैनिक पॉजिटिविटी रेट 3 प्रतिशत से नीचे और लगातार 126 दिनों से 5 प्रतिशत से नीचे बनी हुई है।

14 अक्टूबर को 100 करोड़ वैक्सीन का लक्ष्य हासिल करने के लिए केवल तीन दिन बचे हैं और यह महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करने के लिए भारत को अब वैक्सीन की शेष खुराक देने की प्रक्रिया में तेजी लानी होगी।

0Comments