होम > भारत

राष्ट्रीय हाइड्रो पावर कारपोरेशन की टीम ने किया 7 बांधों, 11 स्थानों का सर्वेक्षण

राष्ट्रीय हाइड्रो पावर कारपोरेशन की टीम ने किया 7 बांधों, 11 स्थानों का सर्वेक्षण

नेशनल हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन (एनएचपीसी) की एक टीम, जो फ्लोटिंग और रूफटॉप सोलर पावर प्लांट स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए सात बांधों और 11 स्थानों का दौरा किया। पहले चरण में अनुमानित स्थापित होने वाली क्षमता लगभग 60MW फ्लोटिंग पावर प्लांट और 5-6MW रूफटॉप पावर प्लांट की है।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि एनएचपीसी ने ओडिशा सहित अन्य राज्यों के साथ इसी तरह के समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं और अब वह गोवा में निवेश करना चाह रही है। एनएचपीसी 10 दिनों के भीतर राज्य सरकार को विस्तृत रिपोर्ट सौंपेगी।

टीम ने फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट और छोटी पनबिजली परियोजनाओं की स्थापना के लिए हरवेलम जलप्रपात के अलावा सेलौलिम, अंजुनेम, अमथाने, चपोली, गवनम और मोइसल बांधों का दौरा भी किया। इन्होने गोवा विश्वविद्यालय, राजभवन, गोवा इंजीनियरिंग कॉलेज, गोवा मेडिकल कॉलेज, उत्तर और दक्षिण गोवा जिला अस्पतालों डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्टेडियम, मापुसा और पेरनेम में खेल प्राधिकरण परिसर का भी दौरा किया, जहां यह ग्राउंड, माउंटेड या रूफटॉप सौर ऊर्जा स्थापित करना चाहता है।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि टीम ने राज्य की चरम आवश्यकता को समझने के लिए गोवा ऊर्जा विकास एजेंसी (जीईडीए) और गोवा बिजली विभाग (जीईडी) के अधिकारियों के साथ विस्तृत चर्चा की। इस आवश्यकता को पूरा करने में पनबिजली के लाभ, बैटरी भंडारण, पंप भंडारण, हाइड्रोजन उत्पादन के लिए व्यावसायिक अवसर, विभिन्न प्रकार की बिजली के लिए टैरिफ प्रोफाइल, पावर एक्सचेंज के माध्यम से बिजली की बिक्री/खरीद, बिजली खरीद समझौते के संबंध में दिशानिर्देश, और एनएचपीसी की डिजाइन ताकत बिजली क्षेत्र इन सभी पर चर्चा की गयी। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एनएचपीसी अपनी रिपोर्ट में "बैटरी भंडारण, हाइड्रोजन और पंप भंडारण पर एक संक्षिप्त जानकारी भी शामिल करेगा, जिसे संयुक्त उद्यम (जेवी) के गठन के बाद आगे बढ़ाया जा सकता है"