होम > भारत

तमिलनाडु बिजली कंपनी में बिजली बिल के कुल स्वचालन में तकनीकी गड़बड़ी

तमिलनाडु बिजली कंपनी में बिजली बिल के कुल स्वचालन में तकनीकी गड़बड़ी

Tangedco के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि बिजली वितरण कंपनी को एक ऐप बनानी थी बिजली बिलिंग प्रक्रिया को पूरी तरह से स्वचालित करने के लिए। इस ऐप को बहुत पहले रोल आउट किया जाना था, लेकिन इसमें तकनीकी खराबी आ जाने के कारण सरकारी बिजली वितरण कंपनियां इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एक निजी तकनीकी परामर्श सेवा से संपर्क कर रहे हैं।

Tangedco के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि गैर-डिवाइस भाषा संदेश विशिष्टता (डीएलएमएस) मीटर में इंटरऑपरेबल डेटा एक्सचेंज से एकीकरण में तकनीकी गड़बड़ी हुई है।

Tangedco ने राज्य के उपभोक्ताओं को डीएलएमएस और गैर-डीएलएमएस मीटर जारी किए थे और राज्य में करीब तीन करोड़ मीटर लगाए गए थे ।

DLMS मीटर स्वचालित रूप से Tangedco द्वारा बनाए गए ऐप के माध्यम से बिलिंग चक्र, बिजली की खपत, भुगतान तिथि और भुगतान इतिहास पर डेटा साझा कर सकते हैं, जबकि गैर-डीएलएमएस मीटर, ये सुविधाएं प्रदान नहीं कर सकते हैं।

Tangedco के अधिकारियों ने कहा कि पिछले दो वर्षों से तमिलनाडु राज्य भर में डीएलएमएस और गैर-डीएलएमएस मीटर स्थापित किए गए हैं पर विभाग यह समझने में विफल रहा कि गैर-डीएलएमएस मीटरों को मोबाइल एप्लिकेशन उपयोग के लिए कस्टमाइज्ड किया जा सकता है।

पावर यूटिलिटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "हमने राज्य भर में डीएलएमएस और गैर-डीएलएमएस दोनों मीटर लगाए हैं और ऐसे लगभग तीन करोड़ मीटर हैं। हालांकि, गैर-डीएलएमएस मीटर ऐप-फ्रेंडली नहीं हैं या उनमें तकनीकी खराबी है। अधिकारियों द्वारा कहा गया कि, हमने इस तरह की अड़चन का अनुमान नहीं लगाया था क्योंकि डीएलएमएस और गैर-डीएलएमएस मीटर की स्थापना शुरू होने के समय, पहले से इस तरह की कोई परियोजना नहीं थी। हमें अब गैर-डीएलएमएस मीटर और ऐप को जोड़ने के दौरान जुड़ी तकनीकी गड़बड़ियों को भी दूर करना होगा।"

अधिकारी ने यह भी कहा कि निजी कंसल्टेंसी सर्विसेज की सहायता से बिजली उपयोगिता तकनीकी मुद्दों को दूर करने का काम और दिसंबर 2022 के अंत तक ऐप का एक नया संस्करण लाने की उम्मीद की जा रही है।