होम > भारत

भारी बारिश का असर टमाटर, प्याज की फसलों पर पड़ा, बढ़ी कीमतें

भारी बारिश का असर टमाटर, प्याज की फसलों पर पड़ा, बढ़ी कीमतें

नई दिल्ली | पिछले हफ्ते प्याज और टमाटर की कीमतें बढ़ने का एक कारण फसलों का उत्पादन करने वाले राज्यों में भारी बारिश का होना है। हालांकि सरकारी आंकड़ों के अनुसार इनपर बारिश का असर अपेक्षाकृत कम रहा है। उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के शुक्रवार के आंकड़ों से पता चला कि 18 अक्टूबर तक प्याज की खेती के लिए लगभग 15 प्रतिशत क्षेत्र बारिश के कारण क्षतिग्रस्त हो गया , जबकि टमाटर के लिए यह 2 प्रतिशत से भी कम रहा।


सरकार ने पिछले हफ्ते की शुरूआत में और यहां तक कि शुक्रवार को भी दावा किया था कि उसके समय पर हस्तक्षेप के कारण ही कीमतों में भारी गिरावट आई है।


आंकड़ों के अनुसार 18 अक्टूबर तक खरीफ सीजन 2021-22 के लिए कुल 3.85 लाख हेक्टेयर में प्याज उगाने के लिए बारिश से नुकसान हुआ क्षेत्र 0.59 लाख हेक्टेयर था।


अधिकारियों ने कहा कि खरीफ 2020-21 के लिए तुलनीय आंकड़ा कुल 3.63 लाख हेक्टेयर खरीफ क्षेत्र में बोया गया जबकि अप्रभावित क्षेत्र 2 लाख हेक्टेयर था।


आंकड़ों से पता चला कि 2021 में अनुमानित उत्पादन पिछले साल के अनुमानित उत्पादन 37.38 लाख टन की तुलना में 43.88 लाख टन है।


मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, "हम अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे हैं और जैसे ही यह बाजार में आएगी, दरें और भी कम हो जाएंगी।"


इसी प्रकार टमाटर के लिए वर्तमान में बोया गया रकबा 2.47 लाख हेक्टेयर है, जबकि बारिश के कारण क्षतिग्रस्त क्षेत्र मुश्किल से 0.04 लाख हेक्टेयर है।


हालांकि, दरों में गिरावट मंडी स्तर पर थोक दरों तक सीमित रही, जबकि उपभोक्ता अभी भी उच्च दरों का भुगतान कर रहे हैं।


इस सप्ताह सोमवार से प्याज की कीमतों में गिरावट आई है हालांकि टमाटर की कीमतें बढ़ी हुई हैं।