होम > भारत

कोरोना को हराने के लिए जायकोव डी की 60 लाख डोज खरीदेगा केंद्र

कोरोना को हराने के लिए जायकोव डी की 60 लाख डोज खरीदेगा केंद्र

नई दिल्ली| केंद्र सरकार कोरोना टीकाकरण को प्रभावी बनाने के लिए जल्द ही जेडवाईसीओवी-डी (जायकोव डी) के 60 लाख टीके खरीदेगी। जेडवाईसीओवी-डी (जायकोव डी) कोविड के खिलाफ दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन है। ये जानकारी केंद्र सरकार में सूत्र ने दी है।


इस संबंध में एक सूत्र ने कहा कि सरकार का लक्ष्य इसके लिए अक्टूबर में कुल 60 लाख टीके खरीदने का है। सूत्र ने कहा कि सरकार अक्टूबर में 28 करोड़ से अधिक टीकों की खरीद करेगी। इसमें 22 करोड़ कोविशील्ड वैक्सीन शॉट्स, छह करोड़ कोवैक्सीन और 60 लाख डीएनए वैक्सीन शामिल हैं।


जेडवाईसीओवी-डी यानी जायकोव डी वैक्सीन को अगस्त 2020 में भारत के नियामक प्राधिकरण द्वारा अनुमोदित किया गया था। तीन-खुराक वाली डीएनए निर्मित वैक्सीन में कोविड के खिलाफ 66.6 प्रतिशत प्रभावकारिता है। सुई के बजाय, इसमें प्रयोगशाला द्वारा उत्पादित डीएनए के साथ त्वचा को इंजेक्ट करने के लिए एक ऐप्लिकेटर का उपयोग किया जाएगा।


जेडवाईसीओवी-डी वैक्सीन अक्टूबर के पहले सप्ताह में रोलआउट होने वाली थी। वैक्सीन रोल आउट में देरी के बारे में पूछे जाने पर, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वी. के. पॉल ने पिछले हफ्ते कहा था कि जायडस कैडिला वैक्सीन में पारंपरिक सिरिंज या सुई का उपयोग नहीं किया जाएगा।


पाल ने गुरुवार को बताया था कि जायडस कैडिला की वैक्सीन लोगों को एक एप्लिकेटर के जरिए लगाई जाएगी। यह एप्लिकेटर भारत में पहली बार उपयोग में लाया जाएगा। डॉ. पाल ने कहा कि जायडस कैडिला वैक्सीन पारंपरिक सिरिंज या सुई का उपयोग करके नहीं बल्कि एक एप्लिकेटर के जरिए लगाई जाती है। वैक्सीन की उपलब्धता पर पाल ने कहा कि राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जायडस कैडिला की वैक्सीन को जल्द ही पेश करने की तैयारी चल रही है।


पॉल ने कहा था, "हम प्रशिक्षकों पर काम कर रहे हैं। आवेदकों के उपयोग पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। हम वैक्सीन के रसद मुद्दों को भी सुलझा रहे हैं और जल्द ही यह कोविड-19 टीकाकरण अभियान का हिस्सा होगी।"


जेडवाईसीओवी-डी टीका 12-18 वर्ष के आयु वर्ग को दिया जाएगा।


इस बीच, पिछले 24 घंटों में 50,63,845 वैक्सीन खुराक के साथ भारत का टीकाकरण कवरेज बुधवार सुबह तक 96 करोड़ का आंकड़ा पार कर गया है।


भारत बहुत जल्द 100 करोड़ टीकों का आंकड़ा हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है।


सूत्र ने कहा कि इसे 2 से 3 दिनों के भीतर हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सभी मंत्री और सांसद अपने-अपने क्षेत्रों में इस उपलब्धि का प्रचार-प्रसार करेंगे।


हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, 8.43 करोड़ से अधिक शेष और अप्रयुक्त कोविड वैक्सीन खुराक अभी भी राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं।


बीते 24 घंटों में 20 नए मामलों के साथ उत्तर प्रदेश कोरोना मुक्त होने की राह पर अग्रसर

बांग्लादेश को मिली सिनोफार्म वैक्सीन की 50 लाख अतिरिक्त खुराक

0Comments