होम > भारत

इस वर्ष CUET मेघालय व नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी में नहीं होगा लागू

इस वर्ष CUET मेघालय व नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी में नहीं होगा लागू

इस वर्ष देशभर की यूनिवर्सिटी में CUET लागू होना है। देश के उत्तर पूर्वी राज्य मेघालय में नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी (एनईएचयू) से संबंधित किसी भी कॉलेजों में दाखिले के लिए फिलहाल कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) अनिवार्य नहीं किया जाएगा। 


हालांकि यह छूट केवल मौजूदा शैक्षणिक वर्ष के लिए ही दी जा रही है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि उत्तर पूर्व की भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए मौजूदा शैक्षणिक वर्ष के लिए नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी को सीयूईटी से बाहर रखा गया है।


स्वयं केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अपने एक आधिकारिक पत्र के माध्यम से बताया है कि मेघालय में और नॉर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित किए जाने वाले स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सीयूईटी की आवश्यकता नहीं है। 


केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने यह पत्र मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा को लिखा है। मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि भौगोलिक परिस्थितियों, दूर-दराज के स्थानों और विश्वविद्यालय की सीमित डिजिटल कनेक्टिविटी मद्देनजर इस वर्ष यहां अंडर ग्रेजुएट दाखिलों मैं कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट से छूट दी गई है।


केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक मेघालय को दी गई यह छूट केवल शैक्षणिक वर्ष 2022-23 शैक्षणिक वर्ष के लिए मान्य हैं। यहां यह विश्वविद्यालय एवं इससे संबंधित कॉलेज अपनी पुरानी प्रक्रिया के तहत ही अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में छात्रों को दाखिले प्रदान करेंगे। गौरतलब है कि इससे पहले मेघालय के मुख्यमंत्री ने 25 अप्रैल को केंद्रीय शिक्षा मंत्री प्रधान से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार से मांग की थी कि फिलहाल मेघालय के कॉलेजों को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट के प्रावधानों से छूट दी जाए। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने राज्य सरकार की इसी मांग के आधार पर यह निर्णय लिया है।


इस बार केंद्रीय विश्वविद्यालयों के स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) देना होगा। इसके चलते देशभर से बड़ी संख्या में छात्र सीयूईटी के लिए अपना पंजीकरण करवा रहे हैं। इनमें से अधिकांश छात्र वह हैं जो फिलहाल कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाएं दे रहे हैं। यूजीसी के मुताबिक सीयूईटी के लिए अभी तक देश भर से 9,81,406 छात्रों ने अपना पंजीकरण कराया। इनमें से 7,39,027 छात्र अपने आवेदन जमा करवी चुके हैं।


पंजीकरण अभी चालू है और इसकी अंतिम तिथि में अभी 1 सप्ताह से अधिक का समय शेष हैं। कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट में कुल 15 लाख छात्रों के शामिल होने की उम्मीद की जा रही है। देश के सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) लागू किया जा चुका है। यह परीक्षाएं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी, (एनटीए) द्वारा ली जाएंगी। एनटीए ने कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट 2022 में छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं।


यूजीसी का मानना है कि केंद्रीय विश्वविद्यालय के अलावा यह राज्य स्तरीय एवं प्राइवेट यूनिवर्सिटी भी सीयूईटी को मान्यता देंगे। यूजीसी चेयरमैन प्रोफेसर एम जगदीश कुमार ने विभिन्न राज्य स्तरीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से सेंट्रल यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट के विषय पर चर्चा की है। फिहाल 45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में यूजी प्रवेश के लिए सीयूईटी लागू किया गया है।