होम > भारत

पीएम मोदी ने कहा, महामारी से निपटने के लिए वैक्सीनेशन सबसे कारगर

पीएम मोदी ने कहा, महामारी से निपटने के लिए वैक्सीनेशन सबसे कारगर

देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि कोविड 19 के नए वैरिएंट को हराने के साथ इस महामारी से निपटने का सबसे उत्तम तरीका केवल टीकाकरण ही है। 


पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों व उपराज्यपालों के साथ हुई उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षका के दौरान ये बात कही है। इस बैठक में कोविड-19 और राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण की प्रगति के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य से संबंधित तैयारियों की समीक्षा की गई।


इस उच्चस्तरीय बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मडांविया, राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार आदि उपस्थित थे। बैठक के दौरान अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को महामारी की स्थिति पर नवीनतम जानकारी दी।


बैठक को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते 100 वर्षों की सबसे बड़ी महामारी के साथ भारत की लड़ाई अब अपने तीसरे वर्ष में प्रवेश कर गई है। उन्होंने कहा, परिश्रम ही हमारा एकमात्र रास्ता है और विजय ही एकमात्र विकल्प है। हम 130 करोड़ भारत के लोग, अपने प्रयासों से कोरोना से जीतकर अवश्य निकलेंगे।


प्रधानमंत्री ने कहा कि ओमिक्रोन को लेकर पहले जो संशय की स्थिति थी, वो अब धीरे-धीरे साफ हो रही है। पहले जो वैरिएंट थे, उनकी अपेक्षा में कई गुना अधिक तेजी से ओमिक्रोन वैरिएंट सामान्य जन को संक्रमित कर रहा है। उन्होंने कहा, हमें सतर्क रहना है, सावधान रहना है लेकिन घबराने की स्थिति ना आए, इसका भी ध्यान रखना है। हमें ये देखना होगा कि त्योहारों के इस मौसम में लोगों की और प्रशासन की सजगता कहीं से भी कम न पड़े। पहले केंद्र और राज्य सरकारों ने जिस तरह प्री-एम्प्टिव, प्रो-एक्टिव और कलेक्टिव अप्रोच अपनाई है, वही इस समय भी जीत का मंत्र है।


उन्होंने कहा कि भारत में बने टीके पूरी दुनिया में अपनी श्रेष्ठता साबित कर रहे हैं। मोदी ने कहा कि यह हर भारतीय के लिए गर्व की बात है कि आज भारत की लगभग 92 प्रतिशत वयस्क आबादी को कोविड टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है। उन्होंने बताया कि देश में टीके की दूसरी खुराक की कवरेज भी 70 प्रतिशत के आस-पास पहुंच चुकी है।


उन्होंने कहा, हमें शत- प्रतिशत टीकाकरण के लिए हर घर दस्तक अभियान को तेज करना होगा। उन्होंने टीकों या मास्क पहनने के बारे में किसी भी गलत सूचना का मुकाबला करने की आवश्यकता पर भी बल दिया।